Thursday, December 9, 2021

Parikrama – 17 Oct 2021

Parikrama

1630 HRS
17.10.2021

नमस्‍कार।दैनिक कार्यक्रम परिक्रमा में आपका स्‍वागत है, श्रोताओं। हर रोज इस कार्यक्रम मेंहम आपके लिए लेकर आते हैं- देश विदेश के समाचार। साथ ही देशभर में मौजूद हमारे संवाददाताअपनी विशेष रिपोर्ट के माध्‍यम से अलग-अलग राज्‍यों की नवीनतम गतिविधियों की जानकारीदेते हैं। आर्थिक जगत की खबरों पर भी हमारी नजर रहती है।

मैंहूं अतहर सईद और मेरे साथ हैं मेरी सहयोगी रेशमा तिवारी। रेशमा आपको भी मेरा नमस्‍कार।

Helloand good afternoon. You are tuned to Parikrama on 100.1 FM. Welcome to theprogramme. My name is RESHMA TIWARI  andwith me today is my co-host ATHAR SAEED And for you we have a selection ofnews, reports, capsules, business, tributes and much more. All these over thenext thirty minutes.

<><><>

AsIndia is on the verge of vaccinating 100 crore people against COVID-19, AllIndia Radio salutes all the doctors, nurses and others who made this possible.At the same time, we caution our listeners that the battle against COVID is notyet over. We appeal to our listeners to get fully vaccinated at the earliestand also help others get vaccinated.

Duringthe festival season, please follow these three simple steps —

  • Wear a face mask.
  • Maintain Do Gaz Ki Doorifor social distancing.
  • Focus on hand and facehygiene.

Forany COVID related information and guidance contact National helpline numbers:011-23978046 and 1075.

<><><>

गृहमंत्रीअमित शाह ने कहा है कि उनका मंत्रालय केरल के कुछ हिस्सों में मूसलाधार वर्षा और बाढ़की स्थिति पर लगातार नजर रखे हुए है। एक ट्वीट में श्री शाह ने कहा है कि केंद्र सरकारजरूरतमंद लोगों की मदद के लिए हर संभव सहायता देगी। उन्होंने बताया कि राज्य में बचावकार्यों के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीमें पहले ही भेजी जा चुकी हैं।

<><><>

वित्‍तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वाशिंगटन में विश्‍व बैंक के अ‍ध्‍यक्ष डेविड मॉलपस के साथहुई बैठक में जलवायु परिवर्तन पर भारत के प्रयासों की जानकारी दी। विश्‍व बैंक के वक्‍तव्‍यमें कहा गया है कि दोनों नेताओं ने प्रभावी योजनाएं बनाने के लिए जलवायु कोष बढानेकी जरूरत पर जोर दिया। उन्‍होंने कहा कि यह कोष निर्धारित अंशदान और विकास लक्ष्‍योंके अनुसार होना चाहिए। श्री मॉलपस ने कहा कि अन्‍तर्राष्‍ट्रीय वित्‍त निगम और बहुआयामीनिवेश गारंटी एजेन्‍सी जैसी संस्‍थाओं को भारत के लिस अधिक सहायता देनी चाहिए। उन्‍होंनेकोविड टीकाकरण अभियान की सफलता पर श्रीमती सीतारमन को बधाई दी और वैक्‍सीन के निर्माणतथा वितरण के लिए भारत के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया।

<><><>

TheUnion Ministry of Health and Family Welfare has informed that the BharatiyaJanata Party led central government has given nod to as many as 157 new medicalcolleges in India since 2014 and spent over 17,691 crore rupees on them.

TheUnion Health Ministry’s response to a new Right to Information (RTI) Act querymentioned that these medical institutes were approved under acentrally-sponsored scheme. Furthermore, the Union Health Ministry said thatsince 2014, about 2,451.1 crore rupees has been given for the upgradation ofexisting state government or central government medical colleges to increaseMBBS seats in the country.

<><><>

केंद्रने अब तक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एक सौ एक करोड़ 17 लाख से अधिक कोविडरोधी टीके निशुल्क उपलब्ध कराये हैं। राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के पास दस करोड़42 लाख से अधिक टीके अब भी उपलब्‍ध हैं।

<><><>

Over97 crore 65 lakh vaccine doses have been administered in the country so farunder the nationwide vaccination drive. The Health Ministry said more than 41lakh 20 thousand doses were administered in the last 24 hours.

Atotal of 14 thousand 146 new cases were reported in the last 24 hours which isthe lowest in the last 229 days. India’s Active caseload stands at one lakh 95thousand 846 which is the lowest in 220 days. Active cases account for lessthan one percent of total cases and are currently at 0.57 per cent, the lowestsince March 2020. The recovery rate is currently at 98.10 percent which is thehighest since March last year. Over 19 thousand 700 recoveries in the last 24hours have taken the total recoveries to over 3 crore 34 lakh.

<><><>

आयकरविभाग ने डिजिटल मार्केटिंग और कचरा प्रबंधन कारोबार में लगे समूहों के यहां छापेमारीकी है। पहला समूह डिजिटल मार्केटिंग और प्रचार प्रबंधन से जुडा है। उसके बेंगलूरू,सूरत, चंडीगढ और मोहाली स्थित सात परिसरों पर छापे मारे गये हैं।

केन्‍द्रीयप्रत्‍यक्ष कर बोर्ड के अनुसार वहां से मिले आपत्तिजनक दस्‍तावेज से पता चलता है कियह समूह एंट्री ऑपरेटर के माध्‍यम से आवास संबंधी प्रविष्टियां प्राप्‍त करता था। एंट्रीऑपरेटर ने माना है कि समूह की बेहिसाब आय नकद और हवाला के जरिये भेजी जाती थी। दूसरासमूह ठोस कचरा प्रबंधन के कारोबार में लगा है। छापेमारी के दौरान मिले सबूतों से पताचला है कि यह समूह ठेका आगे देने और अपने खर्चों के फर्जी बिल बनाता है। छापे के दौरानकरीब सात करोड रूपये की बेहिसाब सम्‍पत्ति और 65 लाख रूपये के गहने मिले हैं।

<><><>

DelhiMetro Rail Corporation, DMRC has introduced the facility of Free High SpeedWiFi service from today at all metro stations of its Yellow Line section fromHUDA City Centre to Samaypur Badli.

Morethan 330 access points have been installed at these 37 stations to provideuninterrupted internet access to the commuters. This High Speed Free Wi-FiService will prove to be a boon to students travelling to and from North DelhiCampus of Delhi University. The Free High-Speed Wi-Fi connectivity is already availableon all metro stations of the Blue Line and Airport Express Line.

<><><>

अंतर्राष्ट्रीय समाचार

Therepresentatives of the High Commission of India and the Assistant HighCommissioner of India at Chattogram Anindya Banerjee paid solemn tribute to thefallen Indian soldiers at Chittagong War Cemetery today. The martyred Indiansoldiers had fought under the flag of the common wealth countries against theAxis powers between 1939-45 during the Second World War.

TheCemetery contains 751 war graves which includes 14 sailors, 545 soldiers and194 airmen. It houses graves of soldiers from the UK, Canada, Australia, NewZealand, East Africa, West Africa, Myanmar, Netherlands, Japan and undividedIndia. It also has more than 10 graves of personnel who were natives of thepresent day Bangladesh.

Thedeep water port of Chittagong which was renamed as Chattogram later was anadvanced basd for operations in Arakan and also a hospital centre. TheChittagong Memorial also contains the names of 6469 sailors of the Royal IndianNavy and Merchant Navy who were lost at sea during the second World War.

<><><>

क्षेत्रीय संवाददाता

InOdisha, the Kharif Marketing Season 2021-22 has commenced from October 1, 2021and will  conclude on September 30, 2022.The State Government will procure paddy during Kharif and Rabi seasonsseparately within the Kharif Marketing season, as per a recent decision of thestate cabinet.  A report:-

Cabinethas approved the Policy to regulate all aspects of paddy and rice procurement.A tentative target of 52 lakh Metric Tonne (LMT) in terms of rice has beenfixed for KMS 2021-22. In terms of paddy this comes to around 77 LMT.  For Kharif, the tentative target forprocurement of paddy would be 63 lakh MT & for Rabi, the target is 14 lakhMT. There is no bar for procurement of any higher quantum if more paddy comesto mandies from registered farmers. In KMS 2020-21, paddy to the tune of 77.33LMT was procured-both Kharif and Rabi included. In terms of rice it came to52.35 LMT. Paddy-Kharif will be procured in the State during the period fromNovember, 2021 to March, 2022 and Paddy -Rabi from May to June, 2022.

Paddywill be procured from registered farmers by payment of Minimum Support Price(MSP). Paddy will be milled into rice by Custom Millers appointed for thepurpose. The rice obtained will be utilised in State’s Public DistributionSystem (PDS) to meet requirements under National Food Security Act, State FoodSecurity Scheme & Other Welfare Schemes and the surplus rice will bedelivered to the Food Corporation of India (FCI).

As perthe policy, paddy will be procured from farmers who are registered in theonline portal of FS & CW Department and sale of paddy is subject to Aadhaarbased biometric identification. All registered and eligible farmers will beintimated in advance by way of SMS to their mobile phones regarding date ofsale of paddy and quantity to be sold. Priority will be given to small andmarginal farmers for sale of paddy to the Government. There would be noimposition on farmers to keep aside a certain portion of their produce forpersonal consumption by their families. A registered farmer can sell his entiresurplus, as per the approved yield rate, to the Government. This willfacilitate the entry of more small and marginal farmers into the procurementfold.

Paymentof farmers’ dues on account of paddy sold to the Government will be transferreddirectly to their bank accounts through online mode within 24 to 48 hours.  Girish Chandra Dash for Parikrama fromBhubaneswar.

<><><>

केन्द्रीयगृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह का द्वीपसमूह दौरा. आइये सुनते है गौरव पटवाल, कीएक रिपोर्ट:-

केन्द्रीयगृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह द्वीपो के अपने तीन दिवसीय दौरे पर पन्द्रह अक्तूबरकी शाम को पोर्ट ब्लेयर पहुंचे। राष्ट्रीय स्मारक सेल्युलर जेल जाकर उन्होंने शहीदस्तंभ पर पुष्पांजलि अर्पित की और स्वतंत्रता सेनानियों के त्याग और बलिदान को दर्शातीस्वातंत्र ज्योत पर जाकर नमन किया। इसके बाद उन्होंने वीर सावरकर और शचीन्द्रनाथ सान्यालकी कोठरी पर जाकर उन्हंे श्रद्धांजलि दी। केन्द्रीय मंत्री ने सेल्युलर जेल स्थित कार्यशालाका भी अवलोकन किया। वे आज़ादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रममें शामिल हुए। समारोह को संबोधित करते हुए केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा किइस तीर्थ स्थल पर आना मेरे लिए गौरव की बात है। उन्होंने सेल्युलर जेल में शहीदों कीयातनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि देशभर को लोगों को इस पावन तीर्थ स्थल पर जरूर आनाचाहिए। उन्होंने स्वतंत्रता सेनानियो के त्याग और बलिदान को याद करते हुए कहा कि इनक्रान्तिकारियों ने यहां अनेक यातनाएं सही लेकिन कभी भी अंग्रेजों के सामने झुके नहीं।उन्हांेने सेल्युलर जेल को आज़ादी की संग्राम से जुड़ा महातीर्थ बताया। केन्द्रीय गृहएवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा कि अंडमान निकोबार द्वीपसमूह सर्वोच्च त्याग कीभूमि है। परियोजनाओ के उद्घाटन के बाद संबोधित करते हुए उन्होंने आज़ाद हिन्द फौज केपराक्रम को याद करे हुए कहा कि इस सेतु से गुज़रने वाला हर व्यक्ति नेताजी के असाधारणसाहस और पराक्रम से प्रेरणा लेकर देश की आज़ादी के लिए उनके त्याग और संघर्ष को हमेशाश्रद्धांजलि देता हुआ गुज़रेगा। इस दौरान उन्होंने नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के संघर्षपर प्रकाश डालते हुए कहा कि नेताजी के नेतृत्व में आज़ाद हिन्द फौज ने पूरी हिम्मत औरनिडरता के साथ अंग्रेजों का मुकाबला किया। उन्नीस सौ तैंतालीस का वो पल पूरे देश कोस्मरण करना चाहिए जब नेताजी उनतीस दिसम्बर उन्नीस सौ तैंतालीस को इस द्वीप पर आए थे।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के तीस दिसम्बर दो हज़ार अट्ठारह के द्वीपसमूह दौरे पर बादउनके द्वारा इस द्वीप का नाम नेताजी सुभाष चन्द्र बोस द्वीप रखने के बाद इसका महत्वऔर बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि देश को एक करने वाले सरदार वल्लभभाई पटेल और स्वाधीनताआंदोलन के सबसे ओजस्वी महानायकों में से एक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को इतिहास मेंउचित स्थान मिलना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नेताजी के जन्मदिवस तेईस जनवरीको पराक्रम दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है ताकि देश के युवाओं को पे्ररणा मिलसके। केन्द्रीय मंत्री ने माउन्ट हैरियट का नाम बदलकर माउन्ट मणिपुर करने की भी घोषणाकी। मणिपुर सरकार से प्राप्त हुए प्रस्ताव को देखते हुए यह फैसला किया गया। साथ हीकेन्द्रीय मंत्री ने जी.बी. पन्त अस्पताल में आठ करोड़ रूपए की लागत से बनकर तैयार हुईकैथ लैब का भी शुभारंभ किया। इससे द्वीपसमूह के हृदय रोगियों का एनजीओग्राफी, एनजीओप्लास्टीऔर पेसमेकर लगाने की सुविधा प्राप्त होगी और रोगियों को मुख्यभूमि के अस्पतालों मेंरेफर करने की दर में कमी आएगी। पोर्ट ब्लेयर के जंगलीघाट में पचास बिस्तरों वाला एकीकृतआयुष अस्पताल के पहले चरण का भी उद्घाटन किया। परिक्रमा के लिए पोर्ट ब्लेयर से मैगौरव पटवाल

<><><>

Defence news capsule:-

रक्षामंत्रीश्री राजनाथ सिंह ने इस हफ्ते दिल्ली में सीमा सड़क संगठन, बीआरओ, द्वारा आयोजित एककार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सेला सुरंग की मुख्य ट्यूब का उद्घाटनकिया। इसके साथ ही उन्होंने ‘इंडिया@75 मोटरसाइकिल अभियान’ को हरी झंडी दिखाकर रवानाभी किया। इस मौके पर अपने संबोधन में श्री सिंह ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमकामेंग जिले में स्थित सेला सुरंग राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने और क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिकविकास को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

317 किलोमीटरलंबी बालीपारा-चारदुआर-तवांग बीसीटी सड़क पर स्थित सेला दर्रा 13,800 फीट की ऊंचाईपर है, जो अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम कामेंग, पूर्वी कामेंग और तवांग जिलों को देश केशेष हिस्सों से जोड़ता है। यह यात्रा में लगने वाले समय को कम करता है और तवांग कोहर मौसम में कनेक्टिविटी प्रदान करता है।

इस मौके परसीमा सड़क संगठन के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चौधरी ने प्रसारण अनुभाग के आनंदसौरभ से ख़ास बातचीत की।

अमरीका केअलास्का में स्थित संयुक्त बेस एल्मेंडॉर्फ रिचर्डसन में भारत अमेरीका संयुक्त प्रशिक्षणअभ्यास के 17वें संस्करण “पूर्व युद्ध अभ्‍यास-21” का शुभारंभ हुआ। इस अवसरपर दोनों देशों के राष्ट्रगान, “जन गण मन” और “द स्टार स्पैंगल्ड बैनर”को बजाने के साथ-साथ राष्ट्रीय ध्वज फहराए गए। इस अभ्यास में 40वीं कैवलरी रेजिमेंटके फर्स्ट स्क्वाड्रन एयरबोर्न के  300 अमेरिकीसैनिक और भारतीय सेना के 7 मद्रास इन्फैंट्री बटालियन ग्रुप के 350 सैनिक भाग ले रहेहैं। 14 दिनों के इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र के जनादेश के तहत विद्रोहऔर आतंकवाद के खिलाफ अभियान के रूप में संयुक्त प्रशिक्षण जैसी गतिविधियाँ शामिल हैं।

और अंत में  भारतीय सेना की 4/5 गोरखा राइफल्स फ्रंटियर फोर्सकी एक टीम ने ब्रिटेन के ब्रेकन, वेल्स में प्रतिष्ठित कैम्ब्रियन पेट्रोल अभ्यास मेंभारतीय सेना का प्रतिनिधित्व करते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया। ब्रिटेन की सेना द्वाराआयोजित एक्स कैम्ब्रियन पेट्रोल को मानवीय सहनशक्ति, टीम भावना की महत्‍वपूर्ण परीक्षामाना जाता है और इसे दुनियाभर की सेनाओं के बीच मिलिट्री पेट्रोलिंग के ओलंपिक के रूपमें जाना जाता है।भारतीय सैन्‍य दल ने इस आयोजन में भाग लेते हुए कुल 96 टीमों के खिलाफप्रतिस्पर्धा की, जिसमें दुनिया भर से विशेष बलों और प्रतिष्ठित रेजिमेंटों का प्रतिनिधित्वकरने वाली 17 अंतर्राष्ट्रीय टीमें शामिल थीं। परिक्रमा के लिए जनसंपर्क  निदेशालय रक्षा मंत्रालय  से आनंद सौरभ की  रिपोर्ट ke sath athar saeed.

<><><>

Panchayati Raj in India

Gandhijibelieved that the soul of our country lies in its villages and that’s why itwas his dream to delegate power to each village and to make laws on subjects oftheir immediate concern. The introduction of three-tier Panchayati Raj systemto enlist people’s participation in rural construction is the step towards thatgoal. This book ‘Panchayati Raj in India’ written in a very simple language byDr Mahipal and published by Directorate of Publications Division, Ministry ofInformation and Broadcasting gives us an insight of the ups and downs in thejourney of Panchayati Raj in India. This book consisting of 160 pages isdivided into 7 chapters followed by conclusion. The first chapter ‘The historyof Panchayati Raj’ gives us an insight of how these units of self government inIndia evolved and became what we know them today. Various committees and commissionswere set up from time to time to review the functioning of PRIs and suggestremedial measures for the revival and reinforcement of these institutions atlocal level. Constitutional amendments took place on recommendations of variouscommittees from Ashok Mehta committee to Thungon Committee.

<><><>

संस्‍कृति संदेश:-

आजहिमालय की चोटी से फिर हमने ललकारा है,दूर हटो, दूर हटो, दूर हटो ऐ दुनिया वालो, हिन्दुस्तानहमारा है। भारत की आजादी के 4 साल पहले देशभक्ति का यह तराना गली-गली गूँजा था। बच्चे-बच्चेकी जबान पर था। 1943 में आई फिल्म किस्मत के इस गीत को लिखा था, कवि प्रदीप ने और जोशीलेसंगीत से सँवारा था, संगीतकार अनिल बिस्वास ने।

अनिलविश्वास का जन्म पूर्वी बंगाल के बरीसाल में 7 जुलाई 1914 को हुआ था। चार साल की उम्रसे वे गाने लगे थे। किशोर उम्र में देशभक्ति जागी और स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होगए। जेल गए और यातनाएँ सही। 16 साल की उम्र में 1930 में कलकत्ता में महान बाँसुरीवादक पन्नालाल घोष के घर शरण ली।

बादमें काज़ी नज़रूल इस्लाम के कहने पर मेगा फोन रिकॉर्ड कंपनी में काम किया। उनका पहलारिकॉर्ड उर्दू में जारी हुआ था। यहीं पर उनकी मुलाकात कुंदनलाल सहगल और सचिन देव बर्मनसे हुई थी। इसके बाद हीरेन बोस के साथ मुंबई आए और यहॉ 26 साल तक संगीत सृजन किया।

अपनेकरियर के आरंभ में वे बॉम्बे टॉकीज से जुड़े रहे। बाद में स्वतंत्र संगीतकार की हैसियतसे उन्होंने लगभग 70 फिल्मों में संगीत दिया।

हिन्दीफिल्म संगीत के भीष्म पितामह कहे जाने वाले अनिल बिस्वास ने अपने संगीत से न सिर्फफिल्म संगीत को शास्त्रीय, और मधुर बनाया बल्कि अनेक गायक गायिकाओं को तराशकर हीरेजवाहरात की तरह प्रस्तुत भी किया। इनमें तलत मेहमूद, मुकेश, लता मंगेशकर और सुरैयाके नाम प्रमुख हैं।

लतामंगेशकर अपने गायन के आरंभिक चरण में गायिका नूरजहाँ से प्रभावित थीं। अनिल दा ने लताको इस प्रभाव से मुक्ति दिलाकर शुद्ध-सात्विक लता मंगेशकर बनाया। इसी तरह मुकेश कोसहगल की आवाज के प्रभाव से मुक्त कराकर उन्हें अपनी अलग मुकेश शैली प्रदान करने मेंभी अनिल दा का हाथ था।

अनिलबिस्वास के दौर में एक से बढ़कर एक संगीतकार रहे लेकिन नौशाद, रोशन, मदन मोहन, सचिनदेव बर्मन, वसंत देसाई, हेमंत कुमार, शंकर-जयकिशन और खय्याम जैसे संगीतकारों के बीचअनिल दा का एक अलग स्थान था। सी. रामचंद्र अनिल दा को अपना गुरू मानते थे।

अनिलदा का सफर फिल्म जगत में सिर्फ 26 साल रहा। अनिल विश्वास के संगीत निर्देशन की पहलीफिल्म 1935 में बनी ’धर्म की देवी’ थी और अंतिम 1965 में आई ’छोटी-छोटी बातें’।

1961में वे मुंबई से दिल्ली चले आए और मृत्युपर्यंत यहीं रहे। यहाँ रहते हुए उन्होंने आकाशवाणीको अपनी सेवाएँ दीं और ’हम होंगे कामयाब एक दिन’ जैसा कौमी तराना युवा पीढ़ी को दिया।

संगीतके जादूगर अनिल दा आज हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनका संगीत आज भी प्रकाश स्तंभ बनकरसंगीत प्रेमियों का मार्ग प्रशस्त कर रहा है।

<><><>

दुनिया रंगबिरंगी

नमस्कार,लंबे और ख़ूबसूरत बाल ज़्यादातर लोगों को पसंद आते हैं, लेकिन क्या आप ये सोच सकते हैंकि कोई अपने लंबे घने बालों से परेशान हो सकता है। शायद नहीं, तो आज हम आपको एक ऐसीमहिला के बारे में बताते हैं जो अपने सर के लंबे और घने बालों से परेशान है। जी हांश्रोताओं ये हैं रुस की रहने वाली 35 साल की एलेना मज़ानिक और इनके बाल लगभग 51 इंचलम्बे हैं, जिन्हें संवारने में एलेना को 16 घंटे का समय लगता है। सबसे बड़ी बात येहै कि इनके बाल इतने लंबे और घने हैं कि कीड़े उसमें अपना घर बना लेते हैं, जिससे उन्हेंकाफ़ी दिक्कत होती है। एलेना ने बताया कि 1999 में आखिरी बार उसउन्होंने ने अपने बालकाटे थे, तब उनकी उम्र 13 साल थी।

हमदेखते हैं कि अधिकतर बच्चों को थीम पार्क में जाकर मस्ती करना बहुत अच्छा लगता है।भारत के बड़े शहरों में ऐसे कई थीम पार्क्स हैं जो बहुत प्रसिद्ध हैं। लेकिन दुनियामें सबसे फेमस है डिज्नीलैंड जो अमेरिका  केकैलिफॉर्निया में स्थित है और अब हम आपको बता दें कि ब्रिटेन में एक ऐसा थीम पार्कबनने जा रहा है जो बच्चों को बेहद पसंद आएगा, जी हाँ ‘ब्रिटिश डिज्नीलैंड’ के तौर परमशहूर इस पार्क का नाम है ‘लंदन रिजॉर्ट’। इस पार्क से जुड़ी कई चीजें अद्भुत हैं, आपको बता दें डार्टफोर्ट में थेम्सनदी के पास या पार्क बन रहा है। भई बच्चों की ख़ुशी के लिए इतना तो बनता है।

भारतमें कई ऐसी जगहें हैं जो देश और विदेश के पर्यटकों को खूब भाती हैं। इन्हीं जगहों मेंशामिल है हिमाचल प्रदेश का जिला लाहौल-स्पीती। पर्यटकों को यहां की सुन्दर वादियां,ग्लेशियर और ऊंचे पहाड़ अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। यहां की बेहद खूबसूरत झीलें सबसेअधिक आकर्षण का केंद्र हैं। यहां पर स्थित चंद्रताल को द मून लेक के नाम से भी जानाजाता है। इस झील के पानी के बारे में जानेंगे तो आप हैरान हो जाएंगे। इस झील की ख़ासियतहै कि इसका पानी दिन में तीन बार अपना रंग बदलता है। इस झील को ‘मीठे पानी की झील’के नाम से भी लोग जानते हैं और यह झील लाहौल-स्पीति के स्थानीय लोगों के लिए धार्मिकमहत्व भी रखती है।

साथियोकोरोना वायरस से बचने के लिए विशेषज्ञ मास्क लगाने की सलाह देते हैं और ये ज़रूरी भीहै। हालांकि तमाम लोग अपना मास्क चेहरे लगाने की बजाये मुंह के नीचे या गले में लटकाएनजर आते हैं। इसी तरह मास्क को मुंह के नीचे लटकाने की वजह से एक महिला को हंस ने सबकसिखा दिया। तो आपको बता दें महिला कहीं घूमने गई थी और उसे एक हंस दिखाई देता है। वहहंस को देखकर उसके सामने बैठ जाती है और अपना मास्क को मुंह से नीचे गले में लटका लेतीहै लेकिन तभी हंस महिला के मास्क को अपनी चोंच से खींच कर उसके मुंह पर ठीक से लगादेता है। जी हाँ बिलकुल सही सुना आपने, महिला को ठीक से मास्क पहनने के हंस के तरीकेको देखकर हर कोई हैरान है। हम तो आपसे यही कहेंगे कि अपनी सुरक्षा अपने हाथ होती है।

दुनिया रंग – बिरंगी में फ़िलहाल इतना ही, यदि आप इस कार्यक्रम के बारे मेंकोई सुझाव देना चाहते हैं या फिर अपने आस – पास की कोई दिलचस्प सी ख़बर हमारे साथ साझाकरना चाहते हैं तो आप हमें ई-मेल कर सकते हैं। हमारा पता है –duniyarangbirangi10@gmail.com फिर मुलाक़ात होगी आपसे, नमस्कार

<><><>

खेल के मैदान में: 

Indiaclinched the South Asian Football Federation (SAFF) Championship for eighth timedefeating Nepal 3-0 in Male. India dominated possession in the first-half ofthe match yesterday but they failed to score any goal. However, captain Chhetriput India ahead minutes into the second half and even before Nepal could settledown, Suresh made it 2-0.

Sahalmade it 3-0 when he tricked a few defenders after receiving the ball on theleft flank at the stroke of the final whistle Chhetri’s goal in the final gamehelped him level with Lionel Messi on 80 international goals. Notably, this isthe Indian football team’s first title victory under head coach Igor Stimac.

<><><>

औरअब समय है उन उल्‍लेखनीय व्‍यक्तित्‍व को याद करने का जिनकी आज पुण्‍यतिथि या जन्‍मदिवसहै।

औरअब बात जन्‍मदिवस की, तो – आज प्रसिद्ध अभिनेत्री स्मिता पाटिल का जन्मदिवस है। उन्होंनेअपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी ख़ास पहचानबनाई थी। उत्कृष्ट अभिनय से सजी उनकी प्रमुख फ़िल्में ‘भूमिका’, ‘मंथन’, ‘चक्र’, ‘शक्ति’,’निशांत’ और ‘नमक हलाल’ आज भी दर्शको के दिलों पर अपनी अमिट छाप छोड़ती हैं।

Regardedamong the finest stage and film actresses of her times, Patil appeared in over80 Hindi, Marathi, Gujarati, Malayalam and Kannada films in a career thatspanned just over a decade.

भारतीयसिनेमा में उनके अमूल्य योगदान के लिए उन्हें दो बार ‘राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार’ और’पद्मश्री’ से भी सम्मानित किया गया। भारतीय सिनेमा जगत में ‘चरणदास चोर’ को ऐतिहासिकफ़िल्म के तौर पर याद किया जाता है, क्योंकि इसी फ़िल्म के माध्यम से श्याम बेनेगलऔर स्मिता पाटिल के रूप में कलात्मक फ़िल्मों के दो दिग्गजों का आगमन हुआ। स्मिता पाटिलने 1980 में प्रदर्शित फ़िल्म ‘चक्र’ में झुग्गी-झोंपड़ी में रहने वाली महिला के किरदारको रूपहले पर्दे पर जीवंत कर दिया। इसके साथ ही फ़िल्म ‘चक्र’ के लिए वह दूसरी बार’राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार’ से सम्मानित की गईं।

<><><>

It’salso the birthday of Anil Kumble, former Indian cricketer, coach andcommentator, who played Tests and ODIs for 18 years. An orthodox right-arm legspin (leg break googly) bowler, he took 619 wickets in Test cricket and remainsthe third-highest wicket taker of all times (as of 2019, behind MuttiahMuralitharan and Shane Warne).

<><><>

- Advertisement -spot_img
Latest news
Related news