A- A A+
Last Updated : Feb 26 2021 9:21PM     Screen Reader Access
News Highlights
EC announces schedule for Assembly elections in W Bengal, Assam, Tamil Nadu, Kerala, Puducherry            Farmers, processing units, MSMEs & Start Ups will be real drivers of Atmanirbhar Bharat: PM Modi            India's economy grows 0.4 % in Oct-Nov            Preparations underway for next phase of COVID-19 vaccination for citizens over 60 years & above 45 years with comorbidities            MHA extends COVID Guidelines for Surveillance, Containment, Caution till 31st of March           

Text Bulletins Details


समाचार प्रभात

0800 HRS
26.01.2021

मुख्य समाचारः -

  • राष्ट्र आज 72वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। राजपथ पर सैन्यशक्ति और सांस्कृतिक विविधता को दर्शाया जाएगा।

  • एक सौ उन्नीस लोगों के लिए पद्म पुरस्कारों की घोषणा। पार्श्व गायक एस.पी. बालासुब्रह्मण्यम को मरोणोपरांत पद्म विभूषण और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान को मरोणोपरांत पदम भूषण।

  • जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे भी पदम विभूषण से सम्मानित।

  • सरकार ने चार सौ 55 वीरता पुरस्कारों और रक्षा अलंकरणों की घोषणा की। गलवान घाटी के नायक कर्नल संतोष बाबू को मरोणोपरांत महावीर चक्र।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- जलवायु अनुकूलन आज पहले की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण हुआ।

  • भारतीय भावना के प्रदर्शन के लिए आज शाम से भारत पर्व की वर्चुअल शुरुआत। 

-----------

कोविड महामारी के खिलाफ देश एकजुट होकर लड़ रहा है। आप भी हमारे साथ सुरक्षा और बचाव के तीन आसान एहतियाती उपायों का संकल्‍प लें।

मास्‍क पहनें

दो गज दूरी, है जरूरी।

सुरक्षित दूरी बनाए रखें।

हाथ और मुंह साफ रखें।

-----------

राष्ट्र आज 72वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। मुख्य कार्यक्रम राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में राजपथ पर आयोजित किया जाएगा, जिसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद परेड की सलामी लेंगे।

72वें गणतंत्र दिवस समारोह भारत की सैन्य शक्ति सांस्कृतिक विविधता सामाजिक और आर्थिक प्रगित की झलक राजपथ पर देखने को मिलेगी। हालांकि कोरोना महामारी के मद्देनजर इस वर्ष परेड के मार्ग को छोटा कर दिया गया है। परेड पहले की तरह विजय चौक से शुरू होगी लेकिन लालकिले पर समाप्त होने के बजाय यह नेशनल स्टेडियम तक ही जाएगी। इस वर्ष गणतंत्र दिवस समारोह में लगभग 25 हजार दर्शकों को ही प्रवेश की अनुमति होगी जहां पहले एक लाख 15 हजार से ज्यादा लोग मौजूद रहते थे। समारोह में 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों तथा वैसे बुजुर्ग जिन्हें कोई बीमारी है उन्हें समारोह में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। इस वर्ष परेड में कोई विदेश ये या मुख्य अतिथि भी नहीं होगा। गणतंत्र दिवस परेड में कुल 32 झांकियां भाग ले रही है जिनमें 17 झांकियां राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की है जबकि नौ झांकियां विभिन्न मंत्रालय विभागों और अर्द्धसैनिक बलों की होंगी और 6 झांकियां रक्षा मंत्रालय की होंगी। इन झांकियों के जरिए भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत आर्थिक प्रगति और रक्षा शक्ति का प्रदर्शन किया जाएगा। वहीं स्कूली बच्चों द्वारा लोक कला का प्रदर्शन किया जाएगा। 122 सदस्यीय बांग्लादेश सशस्त्र बल की टुकड़ी भी राजपथ पर होने वाले परेड में हिस्सा ले रही है। गणतंत्र दिवस परेड का समापन 900 किलोमीटर प्रति घंटा की  गति से उड़ते हुए राफेल युद्ध विमान द्वारा वर्टिकल कलाबाजी से होगा। अनुपम मिश्र के साथ, आकाशवाणी समाचार, दिल्ली।

-----------

आकाशवाणी दिल्‍ली से राजपथ पर आयोजित गणतंत्र दिवस परेड और सांस्‍कृतिक झांकियों का आंखों देखा हाल हिन्‍दी और अग्रेंजी में बारी-बारी से प्रसारित किया जाएगा।

इसे सभी एफएम रेनबो और एफ.एम. गोल्‍ड चैनलों और अतिरिक्‍त मीटरों पर सुबह नौ बजकर पन्‍द्रह मिनट से सुना जा सकता है।

यह प्रसारण एआईआर लाइव न्‍यूज 24x7 और आकाशवाणी एआईआर यू-ट्यूब चैनलों पर भी उपलब्‍ध रहेगा।

-----------

दिल्‍ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस परेड के सुगम संचालन के लिए व्‍यापक यातायात इंतजाम और प्रतिबंध लागू किये हैं। परेड सुबह नौ बजकर 50 मिनट पर विजय चौक से शुरू होगी और नेशनल स्‍टेडियम पर समाप्‍त होगी जबकि परेड में शामिल झांकियां लालकिला मैदान तक जायेंगी। राजपथ की ओर जाने वाले रफी मार्ग, जनपथ, मान‍ सिंह मार्ग पर परेड की समाप्ति तक यातायात प्रतिबंध लागू रहेंगे।

-----------

गणतंत्र दिवस समारोह की सुरक्षा व्यवस्था के तहत आज दिल्ली मेट्रो सेवा के कुछ स्टेशनों पर प्रवेश और निकास की सुविधा उपलब्ध नहीं रहेगी। केंद्रीय सचिवालय और उद्योग भवन मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश और निकास दोपहर 12 बजे तक बंद रहेगा। केंद्रीय सचिवालय स्टेशन पर यात्रियों ट्रेन बदलने की सुविधा उपलब्ध रहेगी। पटेल चौक और लोक कल्याण मार्ग मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश और निकास सुबह 8 बज कर पैंतालिस मिनट से दोपहर 12 बजे तक बंद रहेगा। मेट्रो की सभी पार्किंग भी दिन में 2 बजे तक बंद रहेंगे।

-----------

सरकार ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर पद्म पुरस्‍कारों की घोषणा की है। सात व्‍यक्तियों को पद्म विभूषण से सम्‍मानित किया जाएगा। इनमें जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, मूर्तिकार सुदर्शन साहू और इस्‍लामी विद्वान वहीदुद्दीन खान शामिल है। जाने माने गायक एस पी बालासुब्रमण्‍यम को मरणोपरांत पद्म विभूषण से अलंकृत किया जाएगा।

10 व्‍यक्तियों को पद्मभूषण के लिए चुना गया है। इनमें लोकसभा की पूर्व अध्‍यक्ष सुमित्रा महाजन, जानी मानी पार्श्‍व गायिका के एस चित्रा, वरिष्‍ठ कन्‍नड़ कवि चन्‍द्रशेखर कम्‍बार और सेवानिवृत्‍त लोकसेवक नृपेन्‍द्र मिश्र शामिल हैं। गुजरात के पूर्व मुख्‍यमंत्री केशुभाई पटेल, असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई और पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री रामविलास पासवान को मरणोपरांत पद्मभूषण से सम्‍मानित किया जाएगा।

102 व्‍यक्तियों को पद्मश्री से सम्‍मानित करने की घोषणा की गई है। इनमें समाजसेविका सिंधुताई सपकल, ब्रिटिश फिल्‍म निर्देशक पीटर ब्रूक और ग्रीक इंडोलॉजिस्‍ट निकोलस कज़ानस शामिल हैं। गोवा की पूर्व राज्‍यपाल मृदुला सिन्‍हा, भारतीय मूल के स्‍पेनिश नागरिक के जेसूट प्रिस्‍ट और स्‍वर्गीय लेखक फादर वालेस को मरणोपरांत पद्मश्री से अलंकृत किया जाएगा। इन पुरस्‍कारों की सूची में अनेक भूले-बिसरे नायक शामिल किए गए हैं। 

-----------

लद्दाख के सुल्तरिम चोनजोर को सामाजिक सेवा के लिए इस वर्ष पद्मश्री पुरस्‍कार के लिए चुना गया है। श्री चोनजोर मीमे चोनजोर के नाम से भी लोकप्रिय हैं।

मेमे चोंजोर जिन्‍हें ज़ांस्कर के मांझी के नाम से भी जाना जाता है। वो अपने सेवा और अपने खर्चों के साथ ज़ांस्कर सुमडो से कारग्यक लुंगांक तक सड़क निर्माण में योगदान के लिए मान्यता प्राप्‍त हुआ है। ज़ांस्कर क्षेत्र में अभी भी असंबद्ध गाँव के लिए चिंता व्यक्त करते हुए 75 वर्षीय चोंजोर ने कहा - कारगिल से आकाशवाणी समाचार के लिए अनायत अली। आकाशवाणी समाचार

-----------

पश्चिम बंगाल के सात व्‍यक्तियों को विभिन्‍न क्षेत्रों में योगदान के लिए पद्म पुरस्‍कारों से सम्‍मानित किया जायेगा। हमारे संवाददाता की एक रिपोर्ट

अर्जुन पुरस्‍कार से सम्‍मानित युवा टेबल टेनिस खिलाड़ी मौमा दास से लेकर नब्‍बे वर्ष से अधिक आयु के हास्‍य कलाकर, लेखक और चित्रकार नारायण देबनाथ, शिक्षाविद सुजीत चट्टोपाध्‍याय, जगदीश हल्‍दर और धर्म नारायण वर्मा से लेकर पारम्‍परिक साड़ी बुनकर फुलिया बिरेन कुमार बसक और सामाजिक कार्यकर्ता गुरू मां कमली के योगदान को मान्‍यता देते हुए। भारत सरकार ने इन्‍हें सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान पद्म पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया है। पुरस्‍कार पाने वालों के साथ साथ बंगाल के लोगों ने ही केन्‍द्र सरकार के इस निर्णय का स्‍वागत किया है। शिक्षाविद सुजीत चट्टोपाध्‍याय 17 वर्ष पहले सेवानिवृत हो गये थे और तब से पूर्वी वर्धमान जिलें के असग्राम रामनगर गांव में सदाई फकीरर पाठशाला चला रहे हैं। वे प्रतिवर्ष मात्र दो रुपये फीस लेकर तीन सौ 50 से अधिक विद्यार्थियों को पढ़ा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर 98 वर्ष के नारायण देवनाथ ने हंडा-वोड, बतूल महान और नोंटे-फोंटे जैसे कार्टून चरित्रों को अमर कर दिया है। मौमा दास पश्चिम बंगाल से पद्मश्री पाने वाली पहली टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं।

-----------

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पद्म पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी है। श्री मोदी ने कहा कि भारत राष्ट्र और मानवता के प्रति उनके योगदान का सम्मान करता है। उन्होंने कहा कि जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में इन असाधारण व्यक्तियों ने दूसरों के जीवन में गुणात्मक परिवर्तन किया है।

-----------

राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण-एनआईए के हेड कांस्टेबल विनोद कुमार के.एस. को उत्कृष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है। एनआईए के पांच अधिकारियों को पुलिस पदक से नवाजा गया है। ये हैं- सुश्री सोनिया नारंग, राजेश टीवी, तपन कुमार घोष, पी.के. उथमन और महेश कुमार यादव। 

-----------

राष्ट्रपति ने सशस्त्र बलों के कर्मियों को 455 वीरता और अन्य रक्षा अलंकरणों की मंजूरी दी है।

इनमें एक महावीर चक्र, 5 कीर्ति चक्र, 5 वीर चक्र, 7 शौर्य चक्र, वीरता के चार सेना पदक पर बार, 130 सेना पदक, एक नौसेना पदक, 4 वायुसेना पदक , 30 परम विशिष्ट सेवा मेडल, 4 उत्तम युद्ध सेवा मेडल, 51 अति विशिष्ट सेवा मेडल, 11 युद्ध सेवा मेडल, कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए 3 बार वाले सेना मेडल, दो कोविड ​​वारियर्स सहित 43 सेना मेडल, 8 नौ सेना मेडल, 14 वायु सेना मेडल, एक कोविड वारियर समेत 3 विशिष्ट सेवा मेडल पर बार और 12 कोविड वारियर समेत 131 विशिष्ट सेवा मेडल शामिल हैं।

16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल बी संतोष बाबू को मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया जाएगा। जिन्होंने पिछले वर्ष गलवान घाटी में संघर्ष के दौरान अपनी शहादत दी थी।

चौथी बटालियन पैराशूट रेजिमेंट के सूबेदार संजीव कुमार, केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल-सीआरपीएफ के इंस्पेक्टर पिंटू कुमार सिंह, सीआरपीएफ के हैड कांस्टेबल श्याम नारायण सिंह यादव और सीआरपीएफ कांस्टेबल विनोद कुमार को मरणोपरांत कीर्ति चक्र से सम्मानित किया जाएगा। सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट राहुल माथुर को कीर्ति चक्र प्रदान किया जाएगा।

16 बिहार रेजिमेंट के नायब सूबेदार नादूराम सोरेन, 81 फील्ड रेजिमेंट के हवलदार के पलानी और 16 बिहार रेजिमेंट सेना मेडिकल कोर के नायक दीपक सिंह और तीसरी बटालियन पंजाब रेजिमेंट के सिपाही गुरतेज सिंह को मरणोपरांत वीर चक्र से सम्मानित किया जाएगा। 3 मीडियम रेजिमेंट के हवलदार तेजिंदर सिंह को वीर चक्र प्रदान किया जाएगा।

21वीं बटालियन राष्ट्रीय राइफल्स के मेजर अनुज सूद, जम्मू-कश्मीर के पुलिस निरीक्षक अरशद खान, जम्मू-कश्मीर पुलिस सेलेक्शन ग्रेड के कांस्टेबल जीएच मुस्तफा बराह, जम्मू-कश्मीर पुलिस कांस्टेबल नसीर अहमद कोली और जम्मू-कश्मीर के विशेष पुलिस अधिकारी बिलाल अहमद मागरे को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया जाएगा। छठी बटालियन असम राइफल्स के राइफलमैन प्रणब ज्योति दास और पैराट्रूपर सोनम त्शेरिंग तमांग को शौर्य चक्र प्रदान किया जाएगा।

-----------

गृहमंत्री अमितशाह ने कहा है कि गणतंत्र दिवस भारत की बहुरंगी विविधता और समृद्ध सांस्‍कृतिक धरोहर का प्रतीक है। एक ट्वीट में श्री शाह ने उन सभी विभूतियों का स्‍मरण किया जिनके प्रयासों से 1950 में आज ही के दिन संविधान लागू हुआ। गृहमंत्री ने भारतीय गणराज्‍य की सुरक्षा के लिए बलिदान देने वाले वीरों को सलाम किया।

-----------

देशप्रेम की भावना जगाने का वार्षिक कार्यक्रम भारत पर्व आज से वर्चुअल प्लेटफार्म www.bharatparv2021.com पर आयोजित किया जा रहा है, जो 31 जनवरी तक चलेगा। इस दौरान विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पर्यटन स्थलों, व्यंजनों, हस्तशिल्प और अन्य आकृतियों को प्रदर्शित किया जाएगा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला इस पर्व का उद्घाटन करेंगे। इस अवसर पर संस्कृति और पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल भी उपस्थित रहेंगे।

पर्यटन मंत्रालय हर साल 26 से 31 जनवरी तक गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर लालकिले की प्राचीर के सामने इसका आयोजन करता आ रहा है। इसकी शुरुआत 2016 में की गई थी। इस आयोजन का उद्देश्य लोगों में देश भक्ति की भावना जगाना और यहां की सांस्कृतिक विविधता को दर्शाना है।

संस्‍कृति, आयुष, उपभोक्‍ता मामले और रेलवे मंत्रालय सहित अनेक केन्‍द्रीय मंत्रालय और संगठन इस कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं।

गणतंत्र दिवस परेड की झलकियां और सशस्‍त्र बलों के संगीत बैंड की रिकॉर्डिंग भी इस वर्चुअल प्‍लेटफॉर्म पर उपलब्‍ध रहेगी। इस बेजोड़ वर्चुअल भारत पर्व-2021 में विभिन्‍न संगठनों से संबंधित कई तरह के वीडियो, फिल्‍में, चित्र ब्रोशर और अन्‍य जानकारी भी प्रदर्शित की जाएगी। 

-----------

सूचना और प्रसारण मंत्रालय और विभिन्‍न मीडिया इकाईयां भारत पर्व के लिए जोर-शोर से तैयारियां कर रही हैं। यह पर्व आज से 31 जनवरी तक वर्चुअल माध्‍यम से आयोजित किया जा रहा है। इसमें देश की विविध सांस्‍कृतिक विरासत को प्रदर्शित किया जायेगा। इस आयोजन का उद्देश्य लोगों में देशभक्ति की भावना जगाना है।

पर्व में प्रसार भारती ने भी अपना वर्चुअल स्‍टॉल स्‍थापित किया है जिसमें एक भारत- श्रेष्‍ठ भारत को बढ़ावा देने के प्रयासों को प्रदर्शित किया जायेगा। सूचना और प्रसारण मंत्रालय की अन्‍य मीडिया इकाई लोक संपर्क और संचार ब्‍यूरो महात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती पर केन्‍द्रि‍त प्रदर्शनी का आयोजन कर रहा है। इसमें स्‍वच्‍छ भारत अभियान, सशक्‍त भारत, बापू के सपनों का भारत से जुड़े चित्र, वीडियो और एनिमेशन प्रदर्शित किये जा रहे हैं। भारत की विविधता और उत्‍साह को प्रदर्शित करते हुए प्रकाशन विभाग कला और संस्‍कृति, इतिहास और आधुनिक भारत के निर्माताओं की जीवनी पर आधारित पुस्‍तकों की प्रदर्शनी का आयोजन कर रहा है।

-----------

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए कहा है कि भारत ने विभिन्‍न क्षेत्रों में काफी प्रगति की है और  आर्थिक सुधारों के क्षेत्र में भी लगातार आगे बढ़ रहा है।

मेरे प्यारे देशवासियों, नमस्कार! विश्व के सबसे बड़े और जीवंत लोकतन्त्र के आप सभी नागरिकों को देश के 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर हार्दिक बधाई! विविधताओं से समृद्ध हमारे देश में अनेक त्योहार मनाए जाते हैं, परंतु हमारे राष्ट्रीय त्योहारों को, सभी देशवासी, राष्ट्र-प्रेम की भावना के साथ मनाते हैं। गणतन्त्र दिवस का राष्ट्रीय पर्व भी, हम पूरे उत्साह के साथ मनाते हुए, अपने राष्ट्रीय ध्वज तथा संविधान के प्रति सम्मान व आस्था व्यक्त करते हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि कृषि और श्रम के क्षेत्र में पिछले कुछ समय से लम्बित पड़े सुधारों की प्रक्रिया को कानून बनाकर आगे बढ़ाया जा रहा है। श्री कोविंद ने कहा कि शुरुआती दौर में सुधारों का मार्ग कठिन हो सकता है और उसमें कई बाधाएं सामने आ सकती हैं, लेकिन सरकार ने किसानों के कल्‍याण के लिए निसंदेह समर्पित भाव से काम किया है। 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्‍या पर राष्‍ट्र को सम्‍बोधित करते हुए राष्‍ट्रपति ने कहा कि हर भारतीय को किसानों का अभिनन्‍दन करना चाहिए जिन्‍होंने इतने बड़े पैमाने पर उत्‍पादन किया और बड़ी जनसंख्‍या वाले देश को अनाज और डेयरी उत्‍पादन के क्षेत्र में आत्‍मनिर्भर बनाया।

इतनी विशाल आबादी वाले हमारे देश को खाद्यान्न एवं डेयरी उत्पादों में आत्म-निर्भर बनाने वाले हमारे किसान भाई-बहनों का सभी देशवासी हृदय से अभिनंदन करते हैं। विपरीत प्राकृतिक परिस्थितियों, अनेक चुनौतियों और कोविड की आपदा के बावजूद हमारे किसान भाई-बहनों ने कृषि उत्पादन में कोई कमी नहीं आने दी। यह कृतज्ञ देश हमारे अन्नदाता किसानों के कल्याण के लिए पूर्णतया प्रतिबद्ध है।

राष्ट्रपति ने कहा कि मेहनतकश किसानों ने जिस तरह देश की खाद्य सुरक्षा को सुनिश्चित बनाया उसी तरह कठिन परिस्थितियों में देश के वीर जवानों ने राष्‍ट्रीय सीमाओं की सुरक्षा की।

हमारी सेनाओं के बहादुर जवान, कठोरतम परिस्थितियों में, देश की सीमाओं की सुरक्षा करते रहे हैं। लद्दाख में स्थित, सियाचिन व गलवान घाटी में, माइनस 50 से 60 डिग्री सेन्टीग्रेड तापमान में, सब कुछ जमा देने वाली सर्दी से लेकर, जैसलमर में, 50 डिग्री सेन्टीग्रेड से ऊपर के तापमान में, झुलसा देने वाली गर्मी में - धरती, आकाश और विशाल तटीय क्षेत्रों में - हमारे सेनानी भारत की सुरक्षा का दायित्व हर पल निभाते हैं। हमारे सैनिकों की बहादुरी, देशप्रेम और बलिदान पर हम सभी देशवासियों को गर्व है।

वैज्ञानिकों के योगदान की प्रशंसा करते हुए राष्‍ट्रपति ने कहा कि उनकी वजह से देश में खाद्य सुरक्षा, राष्‍ट्रीय सुरक्षा, बीमारियों से बचाव तथा प्राकृतिक आपदाओं सहित विभिन्‍न क्षेत्रों में विकास संभव हो पाया है।

खाद्य सुरक्षा, सैन्य सुरक्षा, आपदाओं तथा बीमारी से सुरक्षा एवं विकास के विभिन्न क्षेत्रों में, हमारे वैज्ञानिकों ने अपने योगदान से राष्ट्रीय प्रयासों को शक्ति दी है। अन्तरिक्ष से लेकर खेत-खलिहानों तक, शिक्षण संस्थानों से लेकर अस्पतालों तक, वैज्ञानिक समुदाय ने हमारे जीवन और कामकाज को बेहतर बनाया है। दिन-रात परिश्रम करते हुए कोरोना-वायरस को डी-कोड करके तथा बहुत कम समय में ही वैक्सीन को विकसित करके, हमारे वैज्ञानिकों ने पूरी मानवता के कल्याण हेतु एक नया इतिहास रचा है। देश में इस महामारी पर काबू पाने में, तथा विकसित देशों की तुलना में, मृत्यु दर को सीमित रख पाने में भी हमारे वैज्ञानिकों ने डॉक्टरों, प्रशासन तथा अन्य लोगों के साथ मिलकर अमूल्य योगदान दिया है। इस प्रकार, हमारे सभी किसान, जवान और वैज्ञानिक विशेष बधाई के पात्र हैं और कृतज्ञ राष्ट्र गणतन्त्र दिवस के शुभ अवसर पर इन सभी का अभिनंदन करता है।

श्री कोविंद ने कहा कि महामारी के समय हमारे प्रभावकारी तंत्रों ने अमूल्‍य योगदान दिया। राष्ट्रपति ने कहा कि देशवासियों ने आपस में परिवार की तरह एकजुट होकर महामारी के समय अनुकरणीय त्‍याग और सेवा का परिचय दिया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि दवाओं के क्षेत्र में आत्‍मनिर्भरता को देखते हुए आज भारत को फार्मेसी ऑफ द बर्ल्‍ड कहना उचित है क्‍योंकि देश आज समूचे विश्‍व में महामारी से निपटने और मनावता के लाभ के लिए कई देशों को दवाओं और स्‍वास्‍थ्‍य उपकरणों का निर्यात कर रहा है। उन्‍होंने कहा कि अब भारत विश्‍व को टीका उपलब्‍ध करा रहा है।

श्री कोविंद ने कहा कि नई शिक्षा नीति में कई महत्वपूर्ण पहल की गई है।

2020 में घोषित राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति में प्रौद्योगिकी के साथ-साथ परंपरा पर भी जोर दिया गया। इसके द्वारा एक ऐसे नये भारत की आधारशिला रखी गई है जो अंतर्राष्‍ट्रीय मंच पर ज्ञान केन्‍द्र के रूप में उभरने की आकांक्षा रखता है। नई शिक्षा प्रणाली विद्यार्थियों के आतंरिक प्रतिभा को विकसित करेगी और उन्‍हें जीवन की चुनौतियों का सामना करने में सक्षम बनाएगी। 

राष्ट्रपति ने कहा कि गणतंत्र दिवस हर भारतीय के लिए बहुत महत्‍वपूर्ण है।

आज का दिन, देश-विदेश में रहने वाले सभी भारतीयों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आज ही के दिन, 71 वर्ष पहले, हम भारत के लोगों ने, अपने अद्वितीय संविधान को अंगीकृत, अधिनियमित और आत्मार्पित किया था। इसलिए, आज, हम सभी के लिए, संविधान के आधारभूत जीवन-मूल्यों पर गहराई से विचार करने का अवसर है।

श्री कोविंद ने कहा कि न्‍याय, स्‍वतंत्रता, समता और बंधुता के जीवन मूल्‍य हम सबके आदर्श हैं।

संविधान की उद्देशिका में रेखांकित न्याय, स्वतंत्रता, समता और बंधुता के जीवन-मूल्य हम सबके लिए पुनीत आदर्श हैं। यह उम्मीद की जाती है कि केवल शासन की ज़िम्मेदारी निभाने वाले लोग ही नहीं, बल्कि हम सभी सामान्य नागरिक भी इन आदर्शों का दृढ़ता व निष्ठापूर्वक पालन करें। लोकतन्त्र को आधार प्रदान करने वाली इन चारों अवधारणाओं को, संविधान के आरंभ में ही प्रमुखता से रखने का निर्णय, हमारे प्रबुद्ध संविधान निर्माताओं ने बहुत सोच-समझकर लिया था।

राष्ट्रपति ने कहा कि हम सभी को अपने जीवन मूल्‍यों को समय के अनुरूप सार्थक बनाना चाहिए।

न्याय, स्वतंत्रता, समता और बंधुता हमारे जीवन दर्शन के शाश्‍वत सिद्धांत हैं। इनका अनर्वत प्रवाह हमारी सभ्‍यता के आरंभ से ही हम सब के जीवन को समृद्ध करता रहा है। हर नई पीढ़ी का ये दायित्‍व है कि समय के अनुरूप इन मूल्‍यों की सार्थकता स्‍थापित करें। हमारे स्‍वतंत्रता सेनानियों ने यह दायित्‍व अपने समय में बाखूबी निभाया था।

-----------

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि जलवायु अनुकूलन आज पहले की तुलना में अधिक महत्‍वपूर्ण हो गया है और भारत के विकास प्रयासों का एक महत्‍वपूर्ण आयाम है। वीडियो कांफ्रेंस के जरिए जलवायु अनुकूलन सम्‍मेलन को सम्‍बोधित करते हुए श्री मोदी ने कहा कि हम न केवल पेरिस समझौते के लक्ष्‍यों को पूरा करेंगे बल्कि उससे आगे भी जाएंगे।

-----------

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन-डीआरडीओ ने कल ओडिसा में एकीकृत परीक्षण रेंज से नई पीढ़ी की आकाश मिसाइल का सफल परीक्षण किया। सतह से हवा में मार करने वाली उन्नत श्रेणी की इस मिसाइल का इस्तेमाल वायु सेना निचले स्तर पर रडार की पकड़ में ना आने वाले हवाई खतरों का सामना करने में करेगी। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि मिसाइल ने अत्यंत सटीकता से लक्ष्य पर निशाना लगाया।

-----------

ओडिसा में, कल राज्‍यभर में करीब 25 हजार स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को तीन सौ से अधिक केन्‍द्रों पर कोविड-19 के टीके लगाए गए। हमारे संवाददाता ने बताया है कि टीकाकरण की कवरेज के मामले में ओडिसा शीर्ष तीन राज्‍यों में शामिल हो गया है।

-----------

गुजरात में कोविड-19 के नए मामलों में निरन्‍तर कमी आ रही है। स्‍वस्‍थ होने की दर 96 दशमलव छह-चार प्रतिशत तक पहुंच गई है। हमारे संवाददाता ने बताया कि राज्‍य में कोविड टीकाकरण अभियान निर्बाध रूप से चल रहा है। 

गुजरात में कल 13 हजार 803 लोगों को कोविड-19 के टीके दिए गए। इसके साथ ही राज्य में अब तक कुल 92 हजार 122 लोगों को टीके दिए जा चुके हैं। इस बीच, राज्य में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 संक्रमण के 390 नए मामले सामने आये। कल 707 मरीजों के ठीक होने के साथ अस्पतालों से छुट्टी दी गई। संक्रमण के 94 नए मामले अहमदाबाद में दर्ज हुए, जबकि सूरत में 85 नये मामले सामने आये। राज्य में इस वक्त 4 हजार 345 सक्रिय मामले हैं। कल तीन मरीज की मृत्यु के साथ राज्य में कोविड-19 से जान गंवाने वाले मरीजों की संख्या 4 हजार तीन सौ 79 हो गई है। योगेश पंड्या, आकाशवाणी समाचार, अहमदाबाद।

-----------

उत्तर प्रदेश में कौशाम्‍बी जिले को कोरोना मुक्‍त जिला घोषित किया गया है। कौशाम्‍बी राज्‍य का पहला जिला है जहां काई भी व्‍यक्ति कोरोना से संक्रमित नहीं है।

कौशांबी जिले में कोविड का पहला मामला पिछले साल 5 अप्रैल को उस व्यक्ति में सामने आया था जो राजस्थान से लौटा था। पिछले 10 महीनों में 27 लोगों की जान इस वायरस से चली गई और इस दौरान 2 लाख से अधिक लोगों की जांच की गई। पिछले कई हफ्तों से जिले में कोरोना पीड़ित मरीजों की संख्या में लगातार कमी आ रही थी और 23 जनवरी से जिले में कोरोना का एक भी मरीज मौजूद नहीं हैl जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने इस संबंध में शासन को रिपोर्ट भेज दी है। इस बीच राज्य में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की का प्रतिशत बढ़कर 97 दशमलव चार-दो हो गया है। प्रदेश में इस समय कुल 6313 सक्रिय कोरोना मरीज हैं। प्रदेश में अब तक 5 लाख 83 हजार से अधिक मरीज इस जानलेवा बीमारी से पूरी तरीके से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में टीकाकरण का अगला चरण 28 और 29 जनवरी को प्रारंभ होगा उसके बाद 4 और 5 फरवरी को टीकाकरण किया जाएगा। आकाशवाणी समाचार के लिए लखनऊ से सुशील चंद्र तिवारी।

-----------

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत के लोगों को शुभकामनाएं दी है।

-----------

समाचार पत्रों से-

  • गणतंत्र दिवस पर आज लगभग सभी अखबारों ने विशेष आलेख के साथ खबरें दी हैं। राजस्‍थान पत्रिका कहता है- देश भक्ति के जज्‍बे और उमीदों की रोशनी के साथ मनेगा गणतंत्र दिवस। राष्‍ट्रीय सहारा की सुर्खी है- राजपथ पर दिखेगी सैन्य ताकत और सांस्कृतिक विरासत की झलक। अमर उजाला के अनुसार- जय जवान जय किसान, देश की निगाहें आज राजधानी पर। अखबार लिखते हैं कि इस बार कोरोना के कारण परेड को कुछ कम किया गया है और ये विजय चौक से शुरू होकर नेशनल स्‍टेडियम तक होगी।

  • गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्‍या पर राष्‍ट्रपति के राष्‍ट्र के नाम संबोधन को सभी अखबारों ने अलग-अलग शीर्षक से दिया है। दैनिक जागरण लिखता है-किसानों के हित में समर्पित है सरकार। हिंदुस्‍तान की सुर्खी है- किसानों के साथ है सरकार। जनसत्‍ता ने मुख पृष्‍ठ पर खबर दी है- कृषि सुधारों से किसानों को होगा फायदा।

  • पदम पुरस्‍कारों की घोषणा की खबर भी लगभग सभी अखबारों में है। राष्‍ट्रीय सहारा लिखता है-119 को पदम सम्‍मान। दैनिक जागरण की सुर्खी है-जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे सहित सात को पदमविभूषण।

  • राष्‍ट्रपति द्वारा कल सशस्‍त्र बलों के कर्मियों को 455 वीरता पुरस्‍कारों और रक्षा अलंकरण की मंजूरी की खबर सभी अखबारों में है। दैनिक जागरण लिखता है कि 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर और गलवान घाटी के नायक कर्नल बी संतोष बाबू को मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्‍मानित किया जाएगा।

-----------

Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 26 (Feb) Midday News 26 (Feb) Evening News 26 (Feb) Hourly 26 (Feb) (1800hrs)
समाचार प्रभात 26 (Feb) दोपहर समाचार 26 (Feb) समाचार संध्या 26 (Feb) प्रति घंटा समाचार 26 (Feb) (1900hrs)
Khabarnama (Mor) 26 (Feb) Khabrein(Day) 26 (Feb) Khabrein(Eve) 26 (Feb)
Aaj Savere 26 (Feb) Parikrama 26 (Feb)

Listen Programs

Market Mantra 26 (Feb) Samayki 1 (Jan) Sports Scan 26 (Feb) Spotlight/News Analysis 25 (Feb) Employment News 26 (Feb) रोजगार समाचार 26 (Feb) World News 25 (Feb) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 26 (Feb) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar) Sanskrit Saptahiki 20 (Feb) North East Diary 25 (Feb)