A- A A+
Last Updated : Oct 25 2020 10:41AM     Screen Reader Access
News Highlights
Prime Minister Narendra Modi to share his thoughts in 'Mann Ki Baat' programme at 11 this morning            Health Minister Dr Harsh Vardhan says Corona vaccine likely be available in country by January 2021            Last date for filing of Income Tax and GST returns extended till 31st of December            Dussehra is being celebrated across country today            IPL Cricket: Kings XI Punjab beat Sunrisers Hyderabad by 12 runs in Dubai           

Text Bulletins Details


Parikrama

1630 HRS
18.09.2020

नमस्कार, ए. आई. आर. एफ. एम. गोल्‍ड पर कार्यक्रम परिक्रमा में आप सबका हार्दिक स्‍वागत है। आधे घंटे के इस कार्यक्रम में जानेंगे देश-दुनिया के समाचार। चलेंगे क्षे‍त्रीय संवाददाताओं के पास और जानेंगे क्‍या कुछ है उनके पास खास। खेल के मैदान की हलचल होगी और कुछ रोचक जानकारियां के साथ आज से हम आपके तक पहुचायेंगे रोज़गार से जुडी ख़बरेंग भी तो चलिए शुरुआत करते हैं कार्यक्रम की आज की मुख्य समाचारो के साथ । आज परिक्रमा के इस अंक में मैं हूं विशाल शर्मा और मेरे साथ हैं अनीता आनंद । नमस्कार अनीता


Namaskar, and a very warm welcome to all our listeners of AIR FM Gold to this edition of Parikrama.  In today’s edition of parikrama, we bring you news from India and abroad, we travel all over the country with our section correspondents corner and hear the latest from the world of business and sports. From today, we are introducing a new segment called Rozgaar Samachaar where you will get the latest news about job openings.  We first begin with the news.

<><><>

Prime Minister Narendra Modi has dedicated the historic Kosi Rail Mahasetu (mega bridge) to the nation through video-conference today. He also inaugurated 12 rail projects related to passenger facilities to benefit the people of Bihar. Speaking on this occasion, Prime Minister Narendra Modi said history has been created in connectivity and prosperity of Bihar after construction of historical Kosi Rail Mahasetu.


" इससे नॉर्थ-ईस्‍ट के साथियों के लिए वैकल्पिक रेलमार्ग भी उपलब्‍ध हो जाएगा। कोसी और मिथिला क्षेत्र के लिए ये महासेतु सुविधा का साधन तो है ही, ये इस पूरे क्षेत्र में व्‍यापार, कारोबार, उद्योग, रोजगार को भी बढावा देने वाला है। बिहार के लोग तो इसे भलीभांति जानते हैं कि वर्तमान में निर्मली से सरायगढ का रेल का सफर करीब-करीब तीन सौ किलोमीटर का होता है। इसके लिए दरभंगा, समस्‍तीपुर, खगडिया, मानसी, सहरसा ये सारे रास्‍तों से होते हुए जाना पड़ता है। अब वो दिन ज्‍यादा दूर नहीं, जब बिहार के लोगों को तीन सौ किलोमीटर की ये यात्रा नहीं करनी पड़ेगी।


Mr Modi said the bridge has connected Mitihila and Kosi region. The dedication of this project has fulfilled the 86-year old dream and the long wait of the people of the region. The project was completed during the COVID-pandemic where the migrant labour also participated. Mr Modi said, 90 per cent rail line in Bihar has been electrified.


"बिहार में रेल कनेक्टिविटी के क्षेत्र में नया इतिहास रचा गया है। कोसी महासेतु और किउल ब्रिज के साथ ही बिहार में रेल यातायात, रेलवे के बिजलीकरण और रेलवे में मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने, नये रोजगार पैदा करने वाले एक दर्जन प्रोजेक्‍ट्स का आज लोकार्पण और शुभारंभ हुआ है। लगभग तीन हजार करोड रुपये के प्रोजेक्‍ट्स से बिहार का रेल नेटवर्क तो सशक्‍त होगा ही, पश्चिम बंगाल और पूर्वी भारत की रेल कनेक्टिविटी भी मजबूत होगी।"


प्रधानमंत्री ने सहरसा-आदमपुर-कुपाहा खंड पर सुपोल रेलवे स्‍टेशन से डेमू रेलगाड़ी भी रवाना की।प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने 12 रेल परियोजनाओं का भी शुभारंभ किया। इनमें शामिल है- दो नई रेल लाइनें, पांच विद्युतीकरण परियोजनाएं, एक इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव शेड और बाढ़ तथा बख्तियारपुर के बीच तीसरी लाइन परियोजना। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि भूकंप और बाढ़ से विभाजित बिहार को प्रधानमंत्री के प्रयासों से फिर जोड़ा जा रहा है। इस अवसर पर बिहार के मुख्‍यमंत्री नितीश कुमार ने  विकास परियोजनाओं के तेजी से सम्‍पन्‍न होने पर प्रसन्‍नता व्‍यक्‍त की। उन्‍होंने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि बाकी कार्य को भी तेजी से पूरा कराया जाए।

<><><>

The Prime Minister Narendra Modi hailed the passing of the to farm related bills in Lok Sabha as historic and asserted that they will rid farmers and the farm sector of middlemen and other bottlenecks. Mr Modi said, these agrarian reforms will provide new opportunities to farmers to sell their produce, which will increase their profits.


लोकसभा ने कृषक उपज व्‍यापार और वाणिज्‍य (संवर्धन  और सरलीकरण) विधेयक 2020 और किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) कीमत आश्‍वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020, कल ध्‍वनिमत से पारित कर दिये।

<><><>

राज्य सभा ने आज होम्योपैथी केंद्रीय परिषद संशोधन विधेयक, 2020 और भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद संशोधन विधेयक, 2020 को पारित कर दिया।  होम्योपैथी केंद्रीय परिषद संशोधन विधेयक होम्योपैथी केंद्रीय परिषद अधिनियम, 1973 में संशोधन किया गया है।


The Indian Medicine Central Council (Amendment) Bill amends the Indian Medicine Central Council Act, 1970. The Act provides for the constitution of a Central Council which regulates the education and practice of the Indian medicine system including Ayurveda, Yoga and Naturopathy.

<><><>

केन्‍द्र सरकार ने स्‍पष्‍ट किया है कि रेलवे के निजीकरण का कोई प्रस्‍ताव नहीं है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आज यह जानकारी राज्‍यसभा में एक लिखित  उत्‍तर में दी। हालांकि श्री गोयल ने कहा कि 2030 तक रेलवे नेटवर्क के विस्‍तार, क्षमता वृद्धि और अन्‍य आधुनिकीकरण के लिए पचास लाख करोड़ रुपये निवेश करने की आवश्‍यकता होगी।

Mr. Goyal, said Railways has planned to use the Public-Private Partnership model in a few initiatives including induction of modern rakes to run passenger trains on selected routes to provide improved service delivery and bridge the gap in capital funding as well as bring in modern technology. The Minister said, the work of train operations is on.

<><><>

देश में कोविड-19 रोगियों के स्‍वस्‍थ होने की दर 78 दशमलव आठ-छह प्रतिशत हो गई है। पिछले 24 घंटों के दौरान एक ही दिन में 87 हजार 472 से अधिक मरीज़ स्‍वस्‍थ हुए हैं। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने बताया कि अब तक 41 लाख 12 हजार से अधिक लोग ठीक हो चुके हैं। स्‍वस्‍थ होने वालों की संख्‍या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है और वर्तमान में कोविड मरीजों की संख्या कुल संक्रमित लोगों की संख्‍या का केवल 19 दशमलव पांच-दो प्रतिशत रह गई है। इस समय दस लाख 17 हजार मरीजों का इलाज चल रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान एक हजार एक सौ 74 लोगों की इस संक्रमण से मौत हुई है। मृतकों का कुल आंकड़ा 84 हजार तीन सौ 72 पर पहुंच गया है।

<><><>

World Health Oragnization called for frontline medical workers to be provided with protective equipment to prevent them from being infected with the novel coronavirus, and potentially spreading it to their patients and families. Addressing a news briefing marking World Patient Safety Day yesterday WHO director-general Tedros Adhanom Ghebreyesus said One of the keys to keeping patients safe is keeping health workers safe. He said, every day, health workers are not only exposed to infection but stress, burnout, stigma, discrimination and even violence. He said, now more than ever, it is our duty to give health workers the safe working conditions, the training, the pay and the respect they deserve.


WHO launched a charter on health worker safety, which we invite all countries, hospitals, clinics and partners to endorse and implement.

<><><>

In our series on Seva Saptah, today we bring you a special story on Swachh Bharat. In the last six years, Narendra Modi government has laid a lot of emphasis on Clean India. The Swachh Bharat mission has focused on rural and urban areas separately and played a crucial role in ensuring sanitation in the country. Since the launch of the mission in 2014, more than ten crore individual toilets have been constructed across the country. As a result, rural areas in all the states have declared themselves Open Defecation Free ODF on 2nd October last year. Inaugurating Rashtriya Swachhata Kendra in New Delhi last month, Mr Modi said Swachh Bharat Abhiyan has brought about a behavioural change among the citizens.


"देश के बच्चे-बच्चे में पर्सनल और सोशल हाइजिन को लेकर जो चेतना पैदा हुई है उसका बहुत बड़ा लाभ कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में भी मिल रहा है। आप जरा कल्पना कीजिए अगर कोरोना जैसी महामारी 2014 से पहले आती तो क्या स्थिति होती। शौचालय के आभाव में क्या हम संक्रमण की गति को कम करने में रोक पाते। क्या तब लॉकडाउन जैसी व्यवस्थाएं संभव हो पाती। जब भारत की साठ प्रतिशत आबादी खुले में शौच के लिए मजबूर थी। स्वच्छाग्रह ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हमें बहुत बड़ा सहारा दिया है।"


"The Swachh Bharat Mission (Rural) has moved towards its second phase which is also called ODF-Plus. This phase will continue till 2024-25. The Swachh Bharat Mission (Urban) has also made remarkable progress in the area of both sanitation and solid waste management. Over 4324 Urban Local Bodies have been declared ODF in the country so far. More than 66 lakh individual household toilets and over 6 lakh community and public toilets have also been constructed or are under construction. In the area of solid waste management, 96 per cent of wards have 100 per cent door-to door collection while 66 per cent of the total waste generated is being processed. With Anupam Mishra, Suparna Saikia, Delhi".


People from different walks of life shared their views, on the occasion of Prime Minister Narendra Modi's birthday yesterday.


"हर चार महीने में दो-दो हजार रुपये जो लागू करके भेज रहे हैं। किसानों की सुविधा के लिए उसके लिए मैं नरेन्द्र मोदी जी को बहुत बहुत नमन करता हूं। उन्हें उज्ज्वला गैंस में रहे उका से बहुत किसान खाना बनात है। उनसे हम छह बेटा को स्कूल भेजत है। मोदी जी ने हमारे भारत के लिए बहुत कुछ किया है। हमारा देश के आगे बढ़ाने के लिए बहुत अच्छा काम किया है।"

<><><>

CORRESPONDENT CORNER:-


बच्चों में कुपोषण की कमी दूर करने के लिए एक अनूठा कदम उठाते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने उन परिवारों को गाय देने का निर्णय लिया है, जिनके बच्चे कुपोषित हैं। इसका उद्देश्य कुपोषित बच्चों को दूध उपलब्ध कराना है।


The step taken under 'Poshan Abhiyan’ campaign will help in bringing down the level of malnourishment among children and women in the state. Let's listen to Our correspondent from Lucknow for more details.


"राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री गोवंश निराश्रित सहभागिता योजना के तहत अपनी गौशालाओं से उन परिवारों को गाय देने का फैसला किया है जिनके घर में कुपोषित महिलाएं और बच्चे हैं क्योंकि गाय का दूध कुपोषण को खत्म करने में काफी कारगर है। राज्य के पशुधन विभाग के प्रमुख सचिव भुवनेश कुमार की ओर से सभी जिलाधिकारियों को भेजे गए पत्र के अनुसार यह गाय उन परिवारों को दी जाएंगी जो उन्हें रखने के इच्छुक हैं और जिनके पास इन्हें रखने के लिए पर्याप्त स्थान है। अगर ऐसे परिवार की इच्छा होगी तो उन्हें गौशालाओं में आकर गाय को चुनने का भी अवसर दिया जाएगा। गाय के पालन पोषण के लिए 30 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से राशि भी ऐसे परिवारों के खाते में भेजी जाएगी। सुशील चन्द्र तिवारी, आकाशवाणी समाचार, लखनऊ।"

<><><>

Tourism India Hyderabad has taken up massive campaign to create awareness among tourists and students of Telangana and Haryana states, the pairing states, under the Ek Bharat Shrestha Bharat programme.


"Assistant Director, Tourism India, Satarupa Datta informed our correspondent that they have taken up several programmes under the Ek Bharat Shrestha Bharat programme, creating Awarness among students and tourists of both the states. She said the Hello Haryana Programme taken up for students in Schools and Colleges of Telangana state evoked much enthusiasm. She further said a beautiful Video film has been designed while using the 1970s popular track of ‘Ek Anek Ekta’ series of the Films Division for showcasing the best parts of both the states from Tourism point of view and also on part of traditions, food and culture of the two states.


The department also designed beautiful book marks with attractive tourism spots of both the states. The the book marks carrying Telangana Tourim attractions will be distributed in Haryana schools and those with Haryana highlights, are being distributed in the scools of Telangana state.  Lakshmi for Parikrama Hyderabad."

<><><>

In our series on Gandhian philosophy, today we bring you a report on Gandhiji's views on moral values. Gandhian thought’s fundamental tenets are moral and include self-discipline, resisting injustice, developing a spirit of service, selflessness and sacrifice and attempting to maintain truthful and non-violent relations with others.


इन विचारों की जड़ें व्‍यक्ति के ऐसे कायाकल्‍प में निहित हैं जहां वह सत्‍य और अहिंसा के सिद्धांतों के अनुसार जीवन जीने का प्रयास करता है।


"गांधी जी ने कहा था कि अनैतिक साधन जैसे हिंसा से नैतिक अंत संभव नहीं है। उन्‍होंने कहा था कि सादगी, स्‍वेच्छिक सादगी को संदर्भित करती है और इसे गरीबी के साथ तुलना नहीं किया जाना चाहिए। महात्‍मा गांधी के अनुसार एक गांधीवादी का सबसे महत्‍वपूर्ण कर्तव्‍य है अन्‍याय और असत्‍य का विरोध करना। अनुपम मिश्र आकाशवाणी समाचार, दिल्‍ली।

<><><>

STOCK MARKETS :-


Benchmark domestic stocks today logged marginal losses amid mixed global cues. The Sensex at Bombay Stock Exchange declined 134 points, or 0.34 percent, to close at 38,846. The Nifty at National Stock Exchange also fell 11 points, or 0.10 percent, to settle at 11,505.


On the other hand, the broader market at BSE closed divergently. The Mid-cap added 0.26 percent while the Small-cap slipped 0.32 percent up.

<><><>

खेल समाचार:-

stages is all set for the 13th edition of IPL tomorrow in Abu Dhabi.


"After a long wait cricket stars will be in action at the 13th edilion of Indian Premier League in United Aarab Emirates. The fans will have a lot to cheer as Rohit Sharma led Mumbai Indians take on Dhoni led Chennai Super Kings. The tournament, which has been shifted to the UAE due to COVID-19 pandemic is a TV only event. In all, 60 matches will be held in three avenues- Abu Dhabhi, Sharjah and Dubai. All  the participating teams have arrived in UAE to fight it out in a neutral venue away from their home conditions. The organizers have ensured adequate safety arrangements in place creating bio bubbles.The idea is to prevent the Corona virus cases. Over the next 53 days, it is going to be a tough task for the participating teams to win the title. Anuja Kumar for Parikramra from sports desks."

<><><>

DEATH ANNIVERSARIES  :


अब हम ज़िक्र करेंगे जनम दिवसों और मृत्यु दिवसों की यानि की जयंतियों और पुण्यतिथियों की :-


शिवाजी सावंत  पूरा नाम 'शिवाजी गोविन्दराव सावंत', मराठी भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार थे। शिवाजी सावंत का जन्म 31 अगस्त, 1940 को आजरा, ज़िला कोल्हापुर (महाराष्ट्र) में हुआ था। इन्होंने लेखन की शुरुआत प्रारम्भिक कविता से की, किन्तु परिणति गद्य लेखन में थी। वर्षों के चिन्तन-मनन के उपरान्त 27 वर्ष की अवस्था में ही प्रथम मराठी उपन्यास मृत्युंजय का प्रकाशन हुआ।


Shivaji Sawant was an Indian novelist in the Marathi language. He is known as Mrityunjaykaar (meaning Maker of Mrityunjay) for writing the famous Marathi novel Mrityunjay. He was the first Marathi writer to be awarded with the Moortidevi Award in 1994. He wrote a book Mrityunjay (English: Triumph Over Death) based on Karna, one of the leading characters of the epic Mahabharat. This book was translated into Hindi (1974), English (1989), Kannada (1990), Gujarati (1991), Malayalam (1995) and received numerous awards and accolades. His novel Chhava, published in 1980, is based on the life of Sambhaji. He held the post of the vice-president of Maharashtra Sahitya Parishad since 1995. He was president of Baroda Sahitya Sammelan in 1983.


काका हाथरसी भारत के प्रसिद्ध हिन्दी हास्य कवि थे। उन्हें हिन्दी हास्य व्यंग्य कविताओं का पर्याय माना जाता है। काका हाथरसी की शैली की छाप उनकी पीढ़ी के अन्य कवियों पर तो पड़ी ही थी, वर्तमान में भी अनेक लेखक और व्यंग्य कवि काका की रचनाओं की शैली अपनाकर लाखों श्रोताओं और पाठकों का मनोरंजन कर रहे हैं। उनकी रचनाएँ समाज में व्याप्त दोषों, कुरीतियों, भ्रष्टाचार और राजनीतिक कुशासन की ओर सबका ध्यान आकृष्ट करती हैं। भले ही काका हाथरसी आज हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी हास्य कविताए, जिन्हें वे 'फुलझडियाँ' कहा करते थे, सदैव हमे गुदगुदाती रहेंगी। काका हाथरसी ने हास्य रस से ओत-प्रोत कविताओं के साथ-साथ संगीत पर भी पुस्तकें लिखी थी। उन्होंने संगीत पर एक मासिक पत्रिका का सम्पादन भी किया। 'काका के कारतूस' और 'काका की फुलझडियाँ' जैसे स्तम्भों के द्वारा अपने पाठकों के प्रश्नों के उत्तर देते हुए वे अपनी सामाजिक ज़िम्मेदारियों के प्रति भी सचेत रहते थे। उनकी प्रथम प्रकाशित रचना 1933 में "गुलदस्ता" मासिक पत्रिका में उनके वास्तविक नाम से छपी थी।


He was awarded Padma Shri by the government of India in 1985. Today, each year, the Delhi-based "Hindi Academy" awards the annual Kaka Hathrasi Award for outstanding contribution in the literary field.


असित सेन (अंग्रेज़ी: Asit Sen, जन्म: 13 मई, 1917, गोरखपुर, उत्तर प्रदेश; मृत्यु: 18 सितम्बर, 1993) हिंदी सिनेमा के कॉमेंडी किंग कहे जाते थे। उन्होंने चार दशक तक बॉलीवुड पर चरित्र अभिनेता और हास्य कलाकार के रूप में अपनी खास पहचान बनाकर दर्शकों को अपनी अदाओं से लोट-पोट होने के लिए मजबूर कर दिया। उन्होंने 200 से अधिक बॉलीवुड फ़िल्मों में हास्य और चरित्र अभिनेता का किरदार निभाकर अपने अभिनय की अलग पहचान बनाई।  


Shabana Azmi (born 18 September 1950) is an Indian actress of film, television and theatre. The daughter of poet Kaifi Azmi and stage actress Shaukat Azmi, she is an alumna of Film and Television Institute of India of Pune. Azmi made her film debut in 1974 and soon became one of the leading actresses of Parallel Cinema, a new-wave movement known for its serious content and neorealism and received government patronage during the times.Regarded as one of the finest actresses in India, Azmi's performances in films in a variety of genres have generally earned her praise and awards, which include a record of five wins of the National Film Award for Best Actress and several international honours.

<><><>

Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 25 (Oct) Midday News 24 (Oct) Evening News 24 (Oct) Hourly 25 (Oct) (1010hrs)
समाचार प्रभात 25 (Oct) दोपहर समाचार 24 (Oct) समाचार संध्या 24 (Oct) प्रति घंटा समाचार 25 (Oct) (1000hrs)
Khabarnama (Mor) 25 (Oct) Khabrein(Day) 24 (Oct) Khabrein(Eve) 24 (Oct)
Aaj Savere 25 (Oct) Parikrama 24 (Oct)

Listen Programs

Market Mantra 24 (Oct) Samayki 9 (Aug) Sports Scan 24 (Oct) Spotlight/News Analysis 24 (Oct) Employment News 24 (Oct) World News 24 (Oct) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 24 (Oct) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar) Sanskrit Saptahiki 24 (Oct) North East Diary 22 (Oct)