A- A A+
Last Updated : Sep 18 2020 10:31PM     Screen Reader Access
News Highlights
PM hails historic reforms in agriculture; says govt committed to MSP support for farmers            PM Modi inaugurates Kosi Rail mega bridge & 12 railway projects in Bihar            COVID recovery rate improves to 78.86 per cent            India -Japan economic cooperation is on upswing: S Jaishankar            Stage all set for 13th edition of IPL Cricket in Abu Dhabi           

Text Bulletins Details


दोपहर समाचार

1430 HRS
05.08.2020
मुख्य समाचार:-
  • प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने अयोध्‍या में राम मंदिर का भूमिपूजन कर आधार शिला रखी।
  • प्रधानमंत्री ने कहा- राम मंदिर अनेकता में एकता, राष्‍ट्रीय संस्‍कृति और जन-जन की आस्‍था का प्रतीक।
  • केन्‍द्रशासित प्रदेश जम्‍मू कश्‍मीर और लद्दाख के गठन की पहली वर्षगांठ के अवसर पर लोगों के विकास और सशक्तिकरण पर जोर।
  • कोविड से स्‍वस्‍थ होने की दर बढकर 67 प्रतिशत से अधिक हुई। पिछले 24 घंटों में सबसे अधिक रोगी स्‍वस्‍थ हुए।
  • केन्‍द्र सरकार ने फिल्‍म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच केन्‍द्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो से कराने की बिहार सरकार की सिफारिश मंजूर की।
  • महाराष्‍ट्र के मुम्‍बई, ठाणे और पालघर जिलों में तेज वर्षा से जनजीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त।
  • लेबनान की राजधानी बेरूत में भीषण विस्‍फोट में मृतकों की संख्‍या एक सौ हुई, चार हजार से ज्‍यादा लोग घायल।

-----

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि भगवान राम जन-जन के हैं और उनके आदर्श दुनिया के लाखों लोगों को प्रेरित करते रहेंगे। उन्‍होंने कहा कि राम मन्दिर के निर्माण से देश के लोगों की इच्‍छा पूरी हो रही है।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने अयोध्‍या में राम मन्दिर निर्माण के लिए भूमि पूजन किया और मन्दिर निर्माण की आधारशिला रखी। इसके साथ ही अयोध्‍या में मन्दिर निर्माण का कार्य आज से शुरू हो गया।

भूमि पूजन के बाद मंच से संबोधन में श्री मोदी ने राम मन्दिर को राष्‍ट्रीय एकता का प्रतीक बताया। उन्‍होंने देश विदेश के रामभक्‍तों को इस अवसर पर बधाई दी।

आज ये जय घोष सिर्फ सिया राम की नगरी में ही नहीं सुनाई दे रहा बल्कि इसकी गूंज पूरे विश्वभर में, सभी देशवासियों को और विश्व भर में फैले कोरोड़ो- करोड़ों भारत भक्तों को, राम भक्तों को  आज के इस पवित्र अवसर पर कोटि-कोटि बधाई।


प्रधानमंत्री ने कहा राम मंदिर राष्‍ट्रीय संस्‍कृति और जन-जन की आस्‍था का प्रतीक है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सियावर रामचन्‍द्र की जय की गूंज आज पूरे विश्‍व में सुनाई  दे रही है। श्री मोदी ने कहा कि भारत के इतिहास में स्‍वर्णिम अध्‍याय लिखा जा रहा है और श्रीराम सदैव हमारे दिलों  में रहेंगे।

श्री मोदी ने कहा कि आज पूरा देश भावुक है क्‍योंकि सदियों का इंतजार समाप्‍त हो रहा है। करोड़ों लोगों को तो यह विश्‍वास ही नहीं हो रहा होगा कि उनका सपना साकार हो रहा है।

 

आज पूरा भारत भावुक है सदियों का इंतजार आज समाप्त हो रहा है। करोड़ों लोगों को आज ये विश्वास ही नहीं हो रहा होगा कि वो अपने जीते जी इस पावन दिन को देख पा रहे हैं। बरसों से टाट और टेंट के नीचे रहे हमारे राम लला के लिए अब एक भव्य मंदिर का निर्माण होगा।

प्रधानमंत्री ने देश के घर-घर और शहर-शहर से लाई गई पवित्र मिट्टी और नदियों के जल के प्रयास को न भूतो न भविष्‍यति जैसा अभूतपूर्व क्षण बताया।

श्री मोदी ने कहा कि सत्‍य पर अटल रहने के गुण के कारण ही श्रीराम सम्‍पूर्ण हैं। उन्‍होंने कहा कि श्रीराम ने जिस तरह केवट से प्रेम और हनुमान तथा वनवासी बन्‍धुओं से सहयोग लिया, उसी तरह का सहयोग भारत के जन-जन से राम मन्दिर के निर्माण के लिए लिया जा रहा है। श्री मोदी ने कहा कि आज देशभर के लोगों के सहयोग से राम मन्दिर निर्माण का यह पुण्‍य कार्य शुरू हुआ है।


राम मंदिर के लिए कई-कई सदियों तक कई-कई पीढियों ने अखंड अविरत एक निष्ठ प्रयास किया। आज का ये दिन उसी तप, त्याग और संकल्प का प्रतीक है। राम मंदिर के लिए चले आंदोलन में अर्पण भी था तर्पण भी था संघर्ष भी था संकल्प भी था। त्याग, बलिदान और संघर्ष से आज ये स्वप्न साकार हो रहा है।


श्री मोदी ने भूमि पूजन से पहले हनुमानगढ़ी में दर्शन और पूजा की। उन्‍होंने कहा कि हनुमानजी के आर्शीवाद से ही कलयुग में श्रीराम के काज सम्‍पन्‍न होंगे।

कोविड महामारी के कारण भूमि पूजन का कार्यक्रम मर्यादा के साथ सम्‍पन्‍न हुआ। श्री मोदी ने कहा कि भारत ने समय समय पर इस तरह की मर्यादा दिखाई है। उन्‍होंने कहा कि अयोध्‍या पर उच्‍चतम न्‍यायालय के फैसले के बाद भी देश की जनता ने ऐसी ही मर्यादा दिखाई थी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि श्रीराम दीनदयालु थे और उनका जीवन दीन दुखियों के साथ प्रेम और सहयोग का बर्ताव करने की प्रेरणा देता है।

श्री मोदी ने कहा कि राम मन्दिर हमारी शाश्‍वत आस्‍था का प्रतीक बनेगा। यह आने वाली पीढि़यों के लिए आस्‍था, श्रद्धा  और विश्‍वास का प्रतीक होगा।

श्री मोदी ने कहा कि भव्‍य राम मन्दिर के निर्माण के बाद अयोध्‍या में हर क्षेत्र में अवसर बनेंगे और बढ़ेंगे।

प्रधानमंत्री ने राम मन्दिर निर्माण की प्रक्रिया को राष्‍ट्र निर्माण की प्रक्रिया बताया। उन्‍होंने कहा कि यह ऐतिहासक पल दिग-दिगन्‍त और युगों युगों तक भारत की पताका फहराता रहेगा।

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर राम मन्दिर के मॉडल पर स्‍मारक डाक टिकट जारी किया। उत्‍तरप्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने श्री मोदी को स्‍मारिका के रूप में लकड़ी के बने कोडांड राम की प्रतिमा भेंट की।

इस अवसर पर अनेक संत, आध्‍यात्मिक नेता और राम मन्दिर आन्‍दोलन से जुडे अन्‍य नेता उपस्थित थे। विश्‍व हिन्‍दू परिषद के पूर्व अध्‍यक्ष स्‍वर्गीय अशोक सिंघल के परिवार से पवन सिंघल और महेश भागचंदका भी समारोह में उपस्थित थे।

राष्‍ट्रीय स्‍वयं सेवक संघ सरसंघ चालक मोहन भागवत, श्री रामजन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्‍ट के अध्‍यक्ष महंत नृत्‍य गोपाल दास, उत्‍तरप्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ, राज्‍यपाल आनन्‍दी बेन पटेल भी समारोह में शामिल हुए। ब्‍यौरा हमारे संवाददाता से-

राम काज कीन्हे बिनु मोहि कहां विश्राम..अर्थात भगवान राम के काम के पूरा किये बिना मैं कैसे चैन से रह सकता हूं...रामचरित मानस की इन्ही पंक्तियों के जरिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी भावनाओं को इस ऐतिहासिक अवसर पर व्यक्त कियाठीक 12 बजकर 45 मिनट पर इतिहास ने करवट ली और बरसों के संघर्ष, त्याग औऱ बलिदान के बाद वो पवित्र क्षण आया जो आज करोड़ो रामभक्तों के मन मस्तिष्क और हृदय में अंकित हो गया है। मंत्रोच्चार, शंख ध्वनि और चहुं ओर प्रभु राम की जयजयकार के बीच 35 मिनट तक भूमि पूजन का अनुष्ठान संपन्न करते हुए भगवान राम के बाल रूप यानी रामलला विराजमान के भव्य मंदिर का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों हुआ। पारंपरिक धोती कुर्ता धारण किये प्रधानमंत्री ने भूमि पूजन से पहले रामलला को साष्टांग प्रणाम किया, पूजन किया और हनुमानगढ़ी के दर्शन और परिक्रमा करने के साथ ही पुजारियों द्वारा दिये गये मुकुट औऱ साफे को स्वीकार किया। ऐसा करने वाले वो देश के पहले प्रधानमंत्री बन गये। इस ऐतिहासिक अवसर पर अयोध्या नगरी राम नाम से गुंजायमान रही। क़ड़ी सुरक्षा के चलते अयोध्या की सड़कें सूनी थीं, लेकिन गलियां और भवनों पर केसरिया पताका लहरा रही थी, मंदिरों में भजन कीर्तन औऱ रामचरितमानस का पाठ हो रहा था और आम अयोध्यावासी अपने घरों में राम नाम का स्मरण करते हुए एक इतिहास को बनते हुए देख रहे थे।  सुशील चंद्र तिवारी, आकाशवाणी समाचार, अयोध्या।


----

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अयोध्‍या में राम मंदिर के भूमि पूजन के अवसर पर देशवासियों को बधाई दी है। एक ट्वीट में उन्‍होंने कहा कि भगवान राम के मंदिर के विधि सम्‍मत निर्माण से भारत की सामाजिक समरसता का प्रमाण मिलता है। राष्‍ट्रपति ने कहा कि यह मंदिर परिसर राम राज्‍य के सिद्धांतों पर आधारित आधुनिक भारत का प्रतीक होगा।

-----

उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडु ने अयोध्‍या में राम मंदिर के निर्माण को मर्यादा पुरूषोतम राम के सत्‍य और नैतिकता संबंधी विचारों का प्रतीक बताया है। अपने ट्वीट संदेश में उन्‍होंने कहा कि अयोध्‍या नरेश के रूप में श्रीराम ने एक ऐसा जीवन चरित्र जिया जो सबके लिए अनुकरणीय है।

----

श्रीराम जन्‍मभूमि स्‍थल पर विशाल मंदिर के निर्माण के लिए देश भर के प्रमुख तीर्थस्‍थलों, राष्‍ट्रीय महत्‍व के स्‍थानों और पवित्र नदियों से लाई गई मिट्टी और जल का उपयोग किया जायेगा।

-----

छत्‍तीसढ में लोग अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण के लिए आज हो रहे भूमि पूजन को लेकर बहुत उत्‍साहित हैं। यह क्षेत्र भगवान श्रीराम का ननिहाल माना जाता है। बताया जाता है कि  वनवास के दौरान उन्होने यहां लंबा समय बिताया था। पूरे छत्‍तीसगढ में आज विशेष उल्‍लास का माहौल है। 

रामायण काल में छत्तीसगढ़ का बस्तर संभाग दंडकारण्य के नाम से जाना जाता था श्रीराम ने अपने वनवास के दौरान एक लंबा वक्त यहां बिताया था। श्रीराम ने जनकपुर क्षेत्र के सीतामढ़ी-हरचैका जो कि वर्तमान के कोरिया जिले में है, से छत्तीसगढ़ में प्रवेश किया था और यहां के अनेक स्थानों में भ्रमण करते हुए सुकमा जिले के रामाराम इलाके से दक्षिण भारत में प्रवेश किया था। छत्तीसगढ़ सरकार ने ऐसे पचहत्तर स्थानों की पहचान की है, जहां अपने वनवास के दौरान भगवान राम ने समय बिताया था। इन सभी स्थानों को राम वनगमन पर्यटन परिपथ के अंतर्गत विकसित किया जा रहा है।  भगवान राम की मां कौशल्या का जन्म स्थान छत्तीसगढ़ के चंदखुरी को माना जाता है। इसके अलावा ऋषि वाल्मिकी का आश्रम भी तुरतुरिया नामक स्थान पर हैराज्य के मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि राजधानी रायपुर के पास स्थित चंदखुरी में माता कौशल्या के भव्य मंदिर का निर्माण कराया जाएगा। विकल्प शुक्ला, आकाशवाणी समाचार, रायपुर।

-----

केन्‍द्र शासित प्रदेश जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख के गठन के बाद से दोनों प्रदेशों में बड़ी तेजी से विकास हो रहा है। पिछले साल 5 अगस्‍त को केन्‍द्र सरकार ने संविधान के अनुच्‍छेद 370 में संशोधन कर जम्‍मू-कश्‍मीर का पुनर्गठन किया था। 5 अगस्‍त 2019 के बाद से अब तक आातंकी गिरोहों की भर्ती में 42 प्रतिशत की कमी आयी है। पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर से भारत में घुसपैठ की कोशिश करने वालों की संख्‍या में भी 33 प्रतिशत की कमी आयी है।

जम्मू-कश्मीर में आतंक से जुड़ी हिंसा में 54 प्रतिशत की कमी आई है। पिछले साल पांच अगस्त से पहले  तीन सौ 95 घटनाओँ की तुलना में  पांच अगस्त के बाद से अब तक मात्र एक सौ 81 ऐसी घटनाएं हुई है। इस तिथि के बाद घटित 13 सौ 91 कानून व्यवस्था से संबंधी मामलों में अस्सी प्रतिशत पहले तीन महीने अगस्त, सितंबर, अक्तूबर में सामने आए के बाद स्थिति में काफी सुधार आया। और कानून व्यवस्था से जुड़े मसले जो पहले औसतन तीन सौ 70 हर महीने दर्ज होते थे वहां आज कम होकर 28 घटनाएँ प्रति माह हो गया है। दिवाकर आकाशवाणी समाचार दिल्ली।

-----

संविधान के अनुच्‍छेद 370 में संशोधन और 35ए हटाकर दो केन्‍द्रशासित प्रदेश- जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख बनाए जाने का आज एक वर्ष पूरा हो रहा है। सुरक्षा एजेंसियों के लिए यह संतोष और उत्‍साह का विषय है कि वर्ष के पहले छह महीने में कोई विरोध-प्रदर्शन नहीं हुआ और कानून व्‍यवस्‍था से जुडी़ केवल 14 घटनाएं हुई। 

सरकारी आंकडों के अनुसार इस साल जनवरी से लेकर अब तक कश्‍मीर घाटी में छिटपुट घटनाओं को छोड़कर कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। पिछले वर्षों के मुकाबले में अभी तक इस वर्ष कानून व्‍यवस्‍था की स्थिति नियंत्रण में रही और किसी भी हिंसक प्रदर्शन में किसी की हिंसक प्रदर्शन में किसी सिविलियन की मौत नहीं हुई है। इससे यह बात साफ है कि घाटी के नौजवानों को इस बात का अहसास होने लगा है कि बेकार के झगडों में कुछ हासिल होने वाला नहीं है। इस साल कुल मिलाकर छोटी मोटी 14 घटनाएं हुई हैं और यह संख्‍या भी पिछले वर्ष के मुकाबले में बहुत कम है। इससे भी यह साफ हो जाता है कि धारा 370 हटने के बाद घाटी में एक बदलाव आया है। आज घाटी में पत्‍थर मारने की घटनाएं नहीं हो रही हैं और घाटी का नौजवान आईएएस और अन्‍य परीक्षाओं में भाग लेकर सफलताएं प्राप्‍त कर रहा है। आकाशवाणी समाचार के लिए जम्‍मू से आर के रैना। 

-----

जम्‍मू कश्‍मीर प्रशासन ने पिछले एक साल के दौरान विकास कार्यों की दिशा में उल्‍लेखनीय प्रयास किए है।

समवर्ती सूची में शामिल सभी 37 केंद्रीय कानून केंद्रशासित प्रदेशों के निवासियों के लिए अब मान्‍य हैं।

इसके अलावा, रियल एस्‍टेट अधिनियम 2016 के तहत जम्‍मू कश्‍मीर रियल एस्‍टेट विनियिमन और विकास नियम 2020 के मसौदे को मंजूरी दी गई। इसका उद्देश्‍य रियल एस्‍टेट क्षेत्र के नियमन और संवर्धन के लिए रियल एस्‍टेट विनियिमन प्राधिकरण गठित करना है ताकि केंद्रशासित जम्‍मू कश्‍मीर में प्‍लॉट, अपार्टमेंट या भवनों की बिक्री हो सके।   

----

देश में पिछले 24 घंटों के दौरान अब तक के सबसे अधिक कोविड रोगी स्‍वस्‍थ हुए हैं। एक दिन में कुल 51 हजार 706 मरीज स्‍वस्‍थ हुए जो भारत में कोविड-19 के आरंभ से अब तक एक दिन की सबसे बड़ी संख्‍या है। देश में कोविड से स्‍वस्‍थ होने की दर 67 दशमलव एक नौ प्रतिशत हो गई है। 

स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय के अनुसार देश में अब तक कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित कुल 12 लाख 82 हजार दो सौ 15 रोगी स्‍वस्‍थ हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में 52 हजार पांच सौ 9 लोग संक्रमित हुए। कोविड मरीजों की संख्‍या अब 19 लाख 8 हजार 254 हो गई है। इनमें से 5 लाख 86 हजार 244 मरीजों का इलाज चल रहा है। एक दिन में 857 लोगों की मृत्‍यु के साथ मृतकों की संख्‍या 39 हजार 7 सौ 95 हो गई है। देश में कोविड से मृत्‍यु दर घटकर 2 दशमलव शून्‍य आठ प्रतिशत रह गई है। 

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के अनुसार देश में अब तक कुल दो करोड 14 लाख 402 नमूनों की कोविड जांच की गई है।

-----

राजस्‍थान में कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए राज्‍य सरकार कई निर्णय ले रही है। विभिन्‍न जिला कलेक्‍टरों को स्थितिनुसार लॉकडाउन और अन्‍य पाबंदी लगाने के अधिकार दिए गए है। चिकित्‍सा संसाधनों में भी बढ़ोतरी की जा रही है।

-----

बिहार में कोविड संक्रमण से ठीक होने वालों की दर 66 प्रतिशत से अधिक हो गई है। राज्‍य में अब तक 40 हजार से अधिक व्‍यक्ति स्‍वस्‍थ हो चुके हैं और करीब 23 हजार लोगों का विभिन्‍न अस्‍पतालों में उपचार चल रहा है।

----

मध्‍यप्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड संक्रमण के 797 मामलों का पता चला है। राज्‍य में कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्‍या करीब 35 हजार हो गई है। संक्रमण से राज्‍य में अब तक 912 लोगों की मृत्‍यु हुई है। एक रिपोर्ट--

राज्य के स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, मध्यप्रदेश में स्वस्थ होने वालों की संख्या 25 हजार 414 हो गयी है। कल भी अस्पतालों से 1 हजार 315 कोरोनावायरस रोगियों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई है। मध्य प्रदेश में अब 8 हजार 756 सक्रिय मामले हैं। इंदौर में कुल मामलों की संख्या 7 हजार 735 है जबकि भोपाल में 6 हजार 965 है। राज्य में 3 हजार 336 एक्टिव कंटेनमेंट क्षेत्र भी हैं। इसी बीच, राजधानी भोपाल में सरकार ने रात का कर्फ्यू जारी रखने का फैसला किया है। राज्य सरकार के नए दिशा निर्देशों के अनुसार भोपाल में रात 8 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू फिलहाल जारी रहेगा। इसके अलावा, हर शनिवार और रविवार को संपूर्ण लॉकडाउन भी रहेगा। भोपाल में जिम भी अभी नहीं खुलेंगे और अन्य सार्वजनिक गतिविधियों पर भी रोक रहेगी। संजीव शर्मा,आकाशवाणी समाचार,भोपाल।

-----

मिजोरम में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना के तीन नये रोगियों का पता चला है। राज्‍य में कल कोरोना से संक्रमित 16 व्‍यक्ति उपचार के बाद स्‍वस्‍थ हो गए। राज्‍य में अब तक कुल 504 लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं जिनमें से 282 उपचार के बाद ठीक हो चुके हैं।

-----

पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर नियंत्रण के लिए आज सुबह से पूर्ण लॉकडाउन चल रहा है। आज के अलावा राज्‍य सरकार ने 8, 20, 21, 27, 28 और 31 अगस्‍त को भी पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की है।

हमारे संवाददाता ने बताया है कि इस दौरान सार्वजनिक और निजी वाहन नहीं चल रहे है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे और बागडोगरा से उड़ान सेवाएं स्‍थगित की गई है।

----

आकाशवाणी का समाचार सेवा प्रभाग विशेषज्ञों की राय श्रृंखला में कोविड-19 महामारी के बारे में जानेमाने चिकित्‍सा विशेषज्ञों की राय प्रसारित करता है।

आकाशवाणी से बातचीत में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान  संस्‍थान नई दिल्‍ली में हृदय रोग विभाग के डॉ. अंबुज रॉय ने संक्रमण से बचाव के लिए बुर्जुग लोगों और उच्‍च रक्‍तचाप तथा कैंसर जैसी बीमारियों से पीडि़त लोगों को अधिक सावधानी बरतने की सलाह दी है।


दिल्‍ली के लोकनायक जयप्रकाश अस्‍पताल के डॉ. नरेश गुप्‍ता ने लोगों से स्‍वच्‍छता और सु‍रक्षित दूरी बनाए रखने को कहा है।

ये जो कोविड-19 का जो स्प्रेड हुआ है। बड़ा अनफोर्चुनेट है कि इतना लंबा चला है। आप सोशल डिस्टेंसिंग नहीं करेंगे। आप कॉपएटीचिस  नहीं करेंगे। आप हेंड हाईजीन नहीं करेंगे। आप क्लीनलीनेस नहीं मेन्टेन करेंगे। आप जो पोलिशिज़ बताई गईं उसको नहीं देखेंगे  तो यह बढ़ेगा।

-----

आकाशवाणी का समाचार सेवा प्रभाग आज अपने फोन इन कार्यक्रम में कोविड-19 पर विशेष परिचर्चा प्रसारित करेगा। यह कार्यक्रम रात नौ बजकर 30 मिनट से एफ.एम. गोल्‍ड और अतिरिक्‍त मीटरों पर सुना जा सकता है।

दिल्‍ली के लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में निदेशक डॉ. एन.एन. मा‍थुर इस चर्चा में हिस्‍सा लेंगे।
श्रोता, टोल‍-फ्री नम्‍बर 1 8 0 0 1 1 5 7 6 7  पर फोन करके विशेषज्ञ से सवाल पूछ सकते हैं। 0 1 1 2 3 3 1 4 4 4 4 पर भी सवाल पूछे जा सकते हैं। 

-----

केंद्र सरकार ने आज उच्‍चतम न्‍यायालय को सूचित किया कि उसने फिल्‍म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच केंद्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो से कराने की बिहार सरकार की सिफारिश स्‍वीकार कर ली है। केंद्र की ओर से महान्‍यायवादी तुषार मेहता ने यह जानकारी न्‍यायालय को दी।

अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्‍यायालय ने कहा कि सुशांत सिंह की मौत के पीछे की सच्‍चाई सामने आनी चाहिए। रिया ने याचिका में एफआईआर पटना से मुंबई स्‍थानांतरित करने की मांग की है। उन पर सुशांत सिंह को आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने का आरोप है।

उच्‍चतम न्‍यायालय ने मुंबई पुलिस को इस मामले में अब तक की जांच के बारे में स्थिति रिपोर्ट प्रस्‍तुत करने का निर्देश दिया है। अदालत ने महाराष्‍ट्र, बिहार और सुशांत सिंह राजपूत के पिता को रिया की याचिका पर जवाब दाखिल करने को भी कहा है।

सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को मुंबई के बांद्रा में अपने घर में मृत पाए गए थे। तब से मुंबई पुलिस इस मामले से जुड़े अनेक पहलुओं की जांच कर रही है।

-----

74वें स्‍वतंत्रता दिवस समारोहों के सिलसिले में आज प्रस्‍तुत है देश के शिक्षा क्षेत्र की उपलब्धियों पर विशेष जानकारी।

भारत को ज्ञान के क्षेत्र में अत्‍यंत शक्तिशाली बनाने के लिए शिक्षण, अनुसंधान और नवाचार की दिशा में प्रयास किए गए हैं। इन प्रयासों से पिछले छह वर्षों में देश में न केवल शिक्षा क्षेत्र का कायाकल्‍प हुआ है बल्कि देश में शिक्षा का मजबूत बुनियादी ढांचा भी विकसित हुआ है। 

एक नये भारत का निर्माण जहां हर व्यक्ति को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा का अवसर मिले यह केंद्र सरकार का प्राथमिक लक्ष्य है। सभी को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए हाल ही में एक नयी शिक्षा नीति शुरू की गई। इसका मकसद मौजूदा प्रणाली में व्यापक बदलाव लाना है। यह नई नीति अंतर विषयक पर केंद्रित होगी क्योंकि छात्रों के लिए अवसरों के नये द्वार खोलेगी। एक अन्य पहल पीएम ई विद्या डिजिटल ऑनलाइन और ऑन एयर प्लेटफॉर्म के जरिए शिक्षा तक पहुंच सुनिश्चित करेगी। इस पहल से देशभऱ के 25 करोड़ स्कूल जाने वाले बच्चों को फायदा होगा। प्रतिभावान छात्रों को तैयार करने के लिए एक अनूठी पहल प्रधानमंत्री इनोवेटिव लर्निंग प्रोग्राम ध्रुव की भी शुरूआत की गई है। सरकार ने कक्षा एक से 12वीं तक हर एक कक्षा के लिए एक टीवी चैनल शुरू करने की भी घोषणा की है।

इसमें रेडियो और सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का  व्यापक उपयोग भी शामिल होगा। छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के लिए मनोदर्पण नामक एक तंत्र को भी अमल में लाया गया है जोकि उनके मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में सहायक होगा।  भुपेंद्र सिंह, आकाशवाणी समाचार, दिल्ली।

---

सरकार ने शिक्षा गुणवत्ता को उच्‍च कोटि का बनाने और  सबकी पहुंच सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाये हैं। पिछले छह वर्षों में देश में शिक्षा के लिए मजबूत बुनियादी ढांचा खड़ा किया गया है। आकाशवाणी समाचार के साथ बातचीत में केन्‍द्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि शिक्षा से जुड़े प्रत्‍येक क्षेत्र में बीते छह साल में आमूल परिवर्तन हुए हैं।

आदरणीय मोदीजी के आने के बाद शिक्षा के क्षेत्र में आमूल-चुल परिवर्तन आने शुरू हुए। स्कूली शिक्षा देखिये, उच्च शिक्षा देखिये, तकनीकि शिक्षा देखिए, प्रौद्योगिकी क्षेत्र में देखिए। हर क्षेत्र में बहुत आमचुल परिवर्तन हुआ है और अंतर्राष्ट्रीय तट पर प्रतिस्पर्धा तक।

-----

महाराष्‍ट्र की राजधानी मुम्‍बई और उसके पडोसी जिलों ठाणे और पालघर में आज सुबह से तेज बारिश हो रही है। मौसम विभाग ने मुम्‍बई, पुणे, नाशिक और महाराष्‍ट्र के कुछ अन्‍य क्षेत्रों में आज तेज बारिश होने की आशंका व्‍यक्‍त की है। एक रिपोर्ट--

जहां एक तरफ मौसम विभाग के ऑब्जर्वेटरी ने कोलाबा और सांताक्रुज़ में 53 दशमलव दो मिलीमीटर और 84 दशमलव दो मिलीमीटर बारिश दर्ज किया है। वहां दूसरी और मुंबई और मुंबई के नजदीक पालघर जिले में 300 मिलीमीटर से भी अधिक  बारिश दर्ज किया गया है। मुंबई के हिंदमाता , गांधी मार्किट , चैम्बुर स्टेशन, मिलन सब वे, अंधेरी सब वे तथा दहीसर सब वे  में पानी का जमावड़ा देखा गया है। बीएमसी अधिकारी के अनुसार बारिश की तीव्रता कम होने के बाद इन जगह से पानी कम होना शुरू हुआ है। सुबह भारी बारिश की वजह से निचले इलाकों में पानी भरने के कारण वाहनों की आवा जाही पर भी अस पड़ा था। मौसम विभाग के वेबसाइट के अनुसार एमएमआर के थाणे शहर, डोम्बीवली और कल्याण के लिए  इलाकों में 120 मिलीमीटर से भी अधिक बारिस दर्ज किया गया है। मुंबई के उपनगरिये जगहों की बांद्रा और कुर्ला में पिछले 12 घंटों में 30 मिलीमीटर से 70 मिलीमीटर तक बारिश हुई है। इसके इलावा थाने जिले के भायंदर में 169 मिलीमीटर और मीरा रोड में 159 मिलीमीटर बारिश दर्ज किया गया है। देवेप्रियों भट्टाचार्याजी, आकाशवाणी समाचार, मुंबई।

----

बिहार में बाढ की स्थिति अब भी गंभीर बनी हुई है। पिछले 24 घंटे में मधेपुरा और सहरसा जिलों को बाढ़ग्रस्‍त घोषित किये जाने के बाद उत्‍तरी बिहार में बाढ़ग्रस्‍त लोगों की संख्‍या बढ़कर सात लाख हो गयी है। राज्‍य के 16 जिलों की एक हजार 152 पंचायतों के 64 लाख से अधिक लोग बाढ़ की चपेट में हैं। समस्‍तीपुर, सीतामढ़ी, गोपालगंज, पूर्वी चंपारण और सारण जिलों में भी स्थिति गम्‍भीर है।

----

और अब एक नजर आज के मौसम पर  -

राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में गरज के साथ वर्षा होने की संभावना है। न्यूनतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, अधिकतम तापमान 37 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है।

चेन्‍नई में भी सामान्‍य रूप से बादल छाये रहेंगे और हल्‍की वर्षा हो सकती है।
कोलकाता में सामान्‍य रूप से बादल छाये रहने और तेज बारिश की संभावना है।
जम्‍मू-कश्‍मीर के जम्‍मू में रात को आंशिक रूप से बादल छाये रहने का अनुमान है।
श्रीनगर में शाम को बादल छाने की संभावना है।
लद्दाख में आसमान साफ रहेगा लेकिन शाम के समय आंशिक रूप से बादल छाए रहने की संभावना है।
गिलगित में आसमान मुख्‍य रूप से साफ रहेगा। लेकिन  शाम को बादल छा सकते हैं।

मुजफ्फराबाद में भी आसमान साफ रहेगा लेकिन शाम को आंशिक रूप से बादल छा सकते हैं।  न्‍यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, अधिकतम 36 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

-----

लेबनान की राजधानी बेरूत में कल रात हुए भीषण विस्‍फोट में मृतकों की संख्‍या एक सौ तक पहुंच गई है। चार हजार से अधिक लोग घायल हुए हैं। विस्‍फोट इतना तेज था कि इसका झटका पूरे बेरूत में महसूस किया गया। इसके असर से कई मकान ध्‍वस्‍त हो गये और खिडकियों के शीशे टूट गये।

राष्‍ट्रपति माइकल एयोन ने कहा है कि गोदाम में असुरक्षित ढंग से रखे गये दो हजार सात सौ पचास टन अमोनियम नाइट्रेट के कारण यह विस्‍फोट हुआ।
लेबनान में भारतीय दूतावास भारतीय समुदाय के सम्‍पर्क में है। दूतावास ने लोगों के लिए हैल्‍पलाइन नम्‍बर भी जारी किये हैं।
संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव अन्‍तोनियो गुत्‍रश ने पीडि़तों के परिवारों के प्रति गहरी सम्‍वेदना व्‍यक्‍त की है।

----

उपराष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू ने अपने ट्वीट में इस विस्‍फोट में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट की और घायलों के शीघ्र स्‍वस्‍थ होने के लिए प्रार्थना की है।

----

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने मृतकों और घायलों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट की है।

------

श्रीलंका में संसद के 225 सदस्‍यों के निर्वाचन के लिए आज हो रहे आम चुनाव के दौरान अब तक सामान्‍य से तेज मतदान की खबर है। मतदान शांतिपूर्वक चल रहा है सुबह सात बजे शुरू हुआ और शाम 5 बजे तक चलेगा। हमारे संवाददाता ने बताया है कि मतगणना कल होगी और शाम तक परिणाम मिलने की संभावना है।

श्रीलंका में पिछले नवम्बर में हुए राष्ट्रपति चुनाव में गोताबया राजपक्षे की जीत के बाद से ही संसदीय चुनाव पर नजर थी और इसी लिहाज से संसद को मार्च में ही भंग कर दिया गया था। लेकिन कोविड संकट के कारण मतदान तिथि को दो बार स्थगित करना पड़ा। कोविड स्थिति को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था के अलावा स्वास्थ्य व्यवस्था के भी पर्याप्त इंतजाम किये गये हैं और मतदाताओं को मतदान के अंदर और बाहर आते समय हाथ धोना अनिवार्य है। देश में सामान्यत: 80 प्रतिशत से ज्यादा मतदान देखने को मिलता है। लेकिन कोविड स्थिति से यह प्रतिशत आज के मतदान में कम होता दिख रहा है। मतों की गिनती का काम कल शुरू होगा और प्रधानमंत्री महेंदा राजपक्षे के बल को बहुमत पाने का पूर्ण विश्वास है। लेकिन उनकी नजर दो तिहाई बहुमत पर है। जिससे देश में नया संविधान लाया जा सके। विपक्षी दल मुख्यत: दो खेमों में बंटे हैं। जिसकी अगुवाई पूर्व प्रधानमंत्री रनिल विक्रम सिंह है और पूर्व मंत्री सजित प्रेमदासा कर रहे हैं। आकाशवाणी समाचार  के लिए कोलंबो से संतोष कुमार।

-----

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवाजी राव पाटिल निलांगेकर के निधन पर दुख व्‍यक्‍त किया है। शोक संदेश में उन्‍होंने कहा कि निलांगेकर महाराष्‍ट्र की राजनीति के स्‍तम्‍भ थे और उन्‍होंने पूरी निष्‍ठा के साथ राज्‍य के लोगों की सेवा की।

-----

जम्‍मू-कश्‍मीर में धार्मिक स्‍थल खोले जाने के फैसले के बाद वैष्‍णो देवी यात्रा 16 अगस्‍त से फिर शुरू होगी। श्रीमाता वैष्‍णो देवी श्राइन बोर्ड ने कोरोना संक्रमण के कारण लगभग चार महीने तक बंद रहने के बाद तीर्थ यात्रा फिर शुरू किए जाने की घोषणा की है। श्राइन बोर्ड ने कहा कि यात्रा के संबंध में मानक संचालन प्रक्रिया बाद में घोषित की जाएगी।

----

Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 18 (Sep) Midday News 18 (Sep) Evening News 18 (Sep) Hourly 18 (Sep) (1910hrs)
समाचार प्रभात 18 (Sep) दोपहर समाचार 18 (Sep) समाचार संध्या 18 (Sep) प्रति घंटा समाचार 18 (Sep) (2200hrs)
Khabarnama (Mor) 18 (Sep) Khabrein(Day) 18 (Sep) Khabrein(Eve) 18 (Sep)
Aaj Savere 18 (Sep) Parikrama 18 (Sep)

Listen Programs

Market Mantra 18 (Sep) Samayki 9 (Aug) Sports Scan 18 (Sep) Spotlight/News Analysis 18 (Sep) Employment News 18 (Sep) World News 18 (Sep) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 18 (Sep) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar) Sanskrit Saptahiki 12 (Sep) North East Diary 17 (Sep)